ये बात सौ फीसदी सही है कि सभी जानवरों में कुत्ता सबसे ज़्यादा वफ़ादार होता है. अकसर इस पालतू जानवर की वफ़ादारी की ख़बरें आती रहती हैं. एक बार फिर ऐसी ही एक खबर मुंबई से आ रही है, जिसमें एक बार फिर एक डॉग ने अपनी मालकिन की जन बचाने के लिए अपनी जान गंवा कर अपनी वफ़ादारी साबित की है.

Source: hindustantimes

ये मामला मुंबई के एनटॉप हिल इलाके का है. यहां पर लकी नाम का एक डॉग अपनी ओनर की जान बचाने के लिये बीच में आ गया और मारा गया. यह घटना बीते रविवार को उस समय घटित हुई, जब 23 वर्षीय वेंकेटेश अपनी गर्लफ्रेंड और उसकी बहन से किसी बात को लेकर लड़ रहा था. धीरे-धीरे इस लड़ाई ने विकराल रूप ले लिया और वेंकेटेश की गर्लफ्रेंड उससे बचने के लिये पड़ोस के एक घर में जाकर छिप गई. उसका पीछा करते-करते देवेंद्र भी उसी घर की तरफ चला गया. इस बीच उसने चाकू भी निकाल लिया था. उस घर में अपने भाई के साथ रह रही सुमति देवेंद्र ने उस लड़की को बचाने के लिए उसके बॉयफ्रेंड को धक्का देने की कोशिश की, लेकिन वो चाकू लहराने लगा.

Source: hindustantimes
सुमति बताती हैं, 'जब मैंने वेंकेटेश को वहां से जाने के लिये कहा, तो वो मुझे चाकू दिखा कर डराने और धमकाने लगा. यह देखकर मेरा डॉग लकी मुझे बचाने के लिये हमारे बीच आ गया, और उस पर ज़ोर-ज़ोर से भौंकने लगा. इसके बाद सुमति कहती हैं कि इसी दौरान वेंकेटेश ने चाकू से लकी पर जानलेवा हमला किया और उसके पेट में चाकू मार दिया. जिसके बाद लकी की मौत हो गई, लेकिन उसने मेरी जान बचा ली.'

सुमति ने वेंकेटेश के खिलाफ़ IPC की धारा 429 (पशु को मार डालना या पंगु बना देना) के तहत मामला दर्ज कराया है. अगर वेंकेटेश के खिलाफ़ आरोप साबित हो जाते हैं, तो उसे जुर्माने के साथ-साथ 5 साल तक की सज़ा हो सकती है.

सुमिति ने बताया, 'उन्होंने अपनी मां की मौत के बाद लकी को गोद लिया. इसके साथ ही वो कहती हैं कि मेरी मां की अचानक मौत के बाद मैं अकेली हो गई थी. तभी एक दिन कुछ बच्चे खेलते हुए उसे मेरे घर के दरवाजे पर छोड़ गए थे. उस समय वह बच्चा था. मैंने उसे गोद ले लिया, तब से वो मेरे साथ ही रह रहा था.'

सुमति का कहना है कि, 'मेरे लकी ने मेरे लिए अपनी जान दे दी, मैं चाहती हूं कि२ उसके गुनाहगार को सज़ा मिले.'

एनटॉप हिल पुलिस स्टेशन द्वारा गिरफ्तार किये जाने के बाद वेंकेटेश ने पुलिस को बताया, 'मेरी सुमति से बहस हो रही थी कि तभी उनका डॉग बीच में आ गया. और मेरे ऊपर लगतार भौंकने लगा और मेरे कपड़े भी फाड़ दिये.'

फिलहाल वेंकटेश को 5,000 रुपये की जमानत पर छोड़ दिया गया है, लेकिन पुलिस ने वह चाकू बरामद कर लिया गया है, जिससे लकी की मौत हुई.

Feature Image Source: hindustantimes

Source: hindustantimes