समय-समय पर हम मुंबई वालों की मानवता की कहानी सुनते रहते हैं, लेकिन इस बार आधी रात का ये किस्सा आपका दिल जीत लेगा. सोशल मीडिया पर किये गये इस पोस्ट के मुताबिक, रात करीब 1:30 बजे होंगे एक महिला बस उतरती है, इलाका काफ़ी सूनसान था. बस से सवारी उतारने के बाद अमूनन ड्राइवर गाड़ी आगे बढ़ा कर चल देते हैं, लेकिन ये BEST ड्राइवर कुछ अलग किस्म था. इसीलिए वो तब तक वहां से नहीं गया, जब तक महिला को ऑटो रिक्शा नहीं मिल गया.

Source : toiimg

ड्राइवर की इंसानियत और अच्छाई से प्रभावित हो कर महिला ने ट्वीट करते हुए लिखा, मैं बस स्टॉप पर उतरने लगी, तो ड्राइवर ने पूछा कि क्या कोई मुझे लेने आ रहा है, जब मैंने कहा नहीं, तो ड्राइवर ने बस तब तक आगे नहीं बढ़ाई जब तक मुझे ऑटो नहीं मिल गया. 398 ltd के ड्राइवर और कंडक्टर दोनों का ही ये काम नहीं था, लेकिन फिर उन्हें लगा शायद मुझे यहां रात में अकेला खड़ा रहना पड़ेगा, इसीलिए उन्होंने मेरे लिए रुकने का फ़ैसला किया.

वहीं इस महिला के ट्वीट पर एक अन्य महिला ने बताया कि एक बार उसके साथ भी कुछ यही हुआ था. एक ओर जहां महिलाओं के साथ बढ़ती आपराधिक घटनाएं मन को अंदर तक झकझोर कर रख देती हैं, तो वहीं दूसरी ओर इस तरह के किस्सों से लगता है कि मानवता अभी भी ज़िंदा है.

काश! देश का हर नागरिक ऐसी सोच रखता और हां We Love U Mumbai!