भारत एक सांस्कृतिक देश है. इसके पीछे यहां की धार्मिक समरसता है. हम आज आपको एक ऐसी ही कहानी बताने जा रहे हैं, जिसे सुन कर आपको अच्छा लगेगा. कहानी है त्रिपुरा के उनाकोटी ज़िले के एक गांव की, जहां का मुस्लिम समुदाय एक स्कूल का नाम हिन्दू महिला के नाम पर रखना चाहते हैं. इस गांव का नाम है जुबराजनगर, जो पूरी तरह मुस्लिम बहुल है. पूरी स्टोरी इस तरह से है.

Representational Image | Source: Reuters

जुबराजनगर एक मुस्लिम बहुल गांव है. यहां सुमति सूत्रधार ही एक ऐसी महिला हैं, जो हिन्दू हैं. 1999 में अपने पति की मौत के बाद उन्होंने अपनी ज़मीन शिक्षा विभाग को देने का फ़ैसला किया था. इस वजह से यहां के बच्चों की पढ़ाई हो रही है. शुरुआत में कुछ मुसलमानों ने उनकी ज़मीन पर बनने वाले स्कूल का विरोध किया था, लेकिन पिछले 17 सालों में यहां से 550 से ज़्यादा छात्राएं पढ़ चुकी हैं.

इतना ही नहीं, सुमति सूत्रधार इसी स्कूल में एक छोटे से कमरे में रहती थीं. अब गांव वाले चाहते हैं कि उन्होंने अपनी ज़मीन दान देकर गांव की बच्चियों का भविष्य रोशन किया इसलिए इस स्कूल का नाम सुमति सूत्रधार के नाम पर रख दिया जाए.