इस दुनिया में अलग-अलग सोच वाले लोग रहते हैं. ये ज़रूरी नहीं कि आप किसी बात से सहमत हैं तो दूसरा भी यही सोचता हो. वहीं दूसरी तरफ़ इस दुनिया में कुछ ऐसे मिथक भी मौजूद हैं, जिन्हें हर कोई आंख मूंदकर मान लेता है. वो कभी ये पता लगाने की कोशिश ही नहीं करते, कि ये सही हैं भी या नहीं. इसी कड़ी में आज हम आपको दुनियाभर में प्रचलित कुछ ऐसे ही मिथक और उनकी सच्चाई से मिलवाने जा रहे हैं.

1. ताज़ा फल और सब्ज़ियां VS फ़्रोज़न फल-सब्ज़ी

Source: nursegail

बहुत से लोगों का ये मानना है कि फ़्रोज़न फल-सब्जी की तुलना में ताज़ा फल और सब्ज़ियों में अधिक पोषक तत्व मिलते हैं, जबकि ये सरासर ग़लत है. वैज्ञानिक ये सिद्ध कर चुके हैं कि फ़्रोज़न फल-सब्ज़ियों में समान मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं.

2. एंटीबॉयोटिक रज़िस्टेंस

Source: mirror

कहा जाता है कि मानव शरीर एंटीबॉयोटिक रज़िस्टेंस डेवलप कर सकता है. मगर आपको जानकर हैरानी होगी, कि सिर्फ़ बैक्टिरिया ही ऐसा कर सकते हैं. यही वजह है कि कुछ दिनों बाद एंटीबायोटिक दवा मानव शरीर पर असर करना छोड़ देती हैं.

3. खाना और शराब

Source: style

कुछ लोग कहते हैं कि शराब पीने से पहले खाना खा लेने से नशा कम होता है,जो कि ग़लत है. खाना शराब को ज़्यादा मात्रा में अवशोषित करता है. पेट भरा होने से आप हो सकता है कम शराब पीएं, लेकिन नशा चढ़ना तय है.

4. फ़िंगर व्रिंकल्स

Source: Depositphotos

नहाने के बाद आपके पैर और हाथ की उंगलियों में व्रिंकल्स पड़ जाते हैं. कुछ लोग कहते हैं कि ये उंगलियों द्वारा पानी अवशोषित करने से होता है. ये भी ग़लत फ़ैक्ट है . ऐसा रक्त वाहिकाओं के कारण होता है, जो आपकी त्वचा के नीचे मौजूद होती हैं. ये एक नॉर्मल तंत्रिका तंत्र की प्रतिक्रिया होती है.

5. ज़हर और उल्टियां

Source:chronicle

कुछ लोगों का मानना है कि ज़हर खा लेने के बाद उल्टी करने से ज़हर कम फैलता है. लेकिन ये सरासर ग़लत है, ऐसा कतई न करें. ऐसा करने से आपके गले में इंफे़क्शन हो सकता है, क्योंकि अधिकतर ज़हर एसिडिक या अल्कलाइन होते हैं, जो आपके गले के लिये हानिकारक होता है.

6. पेनकिलर्स और दर्द

Source: menshealth

ये बिल्कुग ग़लत फै़क्ट है कि पेनकिलर्स को तब तक नहीं लेना चाहिये जब तक कि आपका दर्द हद से आगे न बढ़ जाए. जानकारों का कहना है कि इन्हें दर्द महसूस होते ही ले लेना चाहिये.

7. मोटापा और पाचन क्रिया

Source: panele

मोटे लोगों का पाचन तंत्र अच्छे से काम नहीं करता, ये भी एक ग़लत फै़क्ट है. डॉक्टरों का कहना है कि मोटे लोगों का पाचंन तंत्र पतले लोगों की तुलना में कहीं तेज़ी से काम करता है.

8. डिम लाइट में पढ़ना

Source: tearfund

डिम लाइट में पढ़ने से अापकी आंखें ख़राब हो जाएंगी, ऐसा बहुत से लोग मानते हैं, लेकिन ये सही नहीं है. कम रोशनी में पढ़ने से आपको पढ़ने में परेशानी हो सकती है, लेकिन इससे आपकी विज़न पर कोई असर नहीं होगा.

9. दोमुहें बाल और शैम्पू

Source: chicmags

वैज्ञानिक ये साबित कर चुके हैं कि कोई भी शैम्पू और कंडिश्नर आपके दोमुहें बालों को ठीक नहीं कर सकता. ये सिर्फ़ उन्हें सॉफ़्ट कर देते हैं.

10. पुरुष और सेक्स

Source: conditions

अक्सर लोग ये कहते हैं कि पुरुष हर 7 सेकेंड में एक बार सेक्स के बारे में सोचते हैं. लेकिन ये सिर्फ़ एक मिथक है, ऐसा कुछ भी नहीं होता.

11. विटामिन C और बुखार

Source: ebay

कुछ लोगों का मानना है कि नींबू और विटामिन C युक्त चीज़ें से बुखार नहीं होता, लेकिन ये सरारासर ग़लत धारण है. विटामिन C रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद तो करता है, लेकिन बुखार होने से नहीं रोकता.

12. चोट को चाटना

Source:woundcarecenters

कई लोग मानते हैं कि चोट को चाटने से वो जल्द ठीक होती है. लेकिन ये बहुत ही ग़लत धारणा है. ऐसा करने से आपके मुंह में मौजूद बैक्टिरिया घाव तक पहुंच जाते हैं, जो हानिकारक साबित हो सकता है.

13. हार्ट अटैक

Source: mentecuerposano

अधिकतर लोग मानते हैं कि हार्ट अटैक आने पर छाती में असहनीय दर्द होता है. लेकिन ये भी एक मिथक ही है, क्योंकि ज़्यादातर हार्ट अटैक बिना किसी Symptom के आते हैं.

14. कम तापमान और बुखार

Source: titanoutletstore

कई लोग कहते हैं कि तापमान के गिरते ही लोगों को बुखार होने लगता है. लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है. आपको बुखार आपके कमज़ोर इम्यून सिस्टम की वजह से आता है.

15. डिब्बाबंद प्रोडक्ट्स

SOurce: HealthyPrepper

बहुत से लोग ये मानते हैं कि डिब्बाबंद प्रोडक्ट्स में उतने पोषक तत्व नहीं होते जितने की ऑर्गेनिक फूड में, लेकिन ये भी एक ग़लत धारणा है.

अगर आप भी ऐसे ही किसी मिथक के बारे में जानते हैं, तो कमेंट कर हमसे भी शेयर करें.

Source: Brightside