केरल में आई भयानक बाढ़ ने पिछली एक सदी के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए. केरल को वापस पटरी पर लाने के लिए पूरा देश जिस तरह एकजुट हुआ है, वो एक मिसाल है.

केरल के बाद अब नागालैंड को भी मदद की ज़रूरत है.

नागालैंड में आई बाढ़ के कारण 12 लोगों की मौत हो चुकी है और 3000 से ज़्यादा लोग बेघर हो गए हैं. फ़सल और खेती को भी नुकसान पहुंचा है.

Source: Qrius

बाढ़ ने ऐसी तबाही मचाई है कि सड़कें टूट गई हैं और राहत कार्य में काफ़ी परेशानियां आ रही हैं.

Source: Zee News

इकोनमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, राज्य के 532 गांवों के 48 हज़ार से ज़्यादा परिवार बाढ़ से जूझ रहे हैं. बाढ़ के अलावा भूस्खलन ने हालात बद से बद्तर कर दिए हैं. राजधानी कोहिमा भी बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हुई है.

26 जुलाई से लगातार वर्षा के कारण राज्य के तीन ज़िले, Tuensang, Kiphireऔर Phek का संपर्क बाकी राज्यों से टूट गया है.

Source: Economic Times

राज्य सरकार का अनुमान है कि बाढ़ से राहत के लिए 800 करोड़ की ज़रूरत है. केन्द्र सरकार ने नागालैंड की पूरी मदद करने का आश्वासन दिया है.

कल मुख्यमंत्री Neiphiu Rio ने ट्वीट कर देशवासियों से मदद की अपील की-

भारतीय वायुसेना ने राहत सामग्री पहुंचाने का काम शुरू कर दिया है लेकिन टूटी हुई सड़कें राहत कार्य में बाधा बन रही है.

केरल के बाद अब नागालैंड को हमारी ज़रूरत है. आप Paytm के ज़रिए या फिर CM Relief Fund में डोनेट कर सकते हैं.