दिन के समय अपने काम से थोड़ा समय निकाल कर झपकी लेना, आपकी सेहत को दुरुस्त और आपको तरोताज़ा रखने के लिए काफ़ी महत्वपूर्ण है. काम के बीच में झपकी के लिए समय और जगह आसानी से नहीं मिलती है. लोगों की इसी परेशानी को दूर करने के लिये स्पेन में एक Nap Bar खुला है. Nap Bar का ये आइडिया स्पेन की 'Maria Estrella Jorro de Inza' को आया था.

Source - Independent

Maria ने अपने इस Nap Bar का नाम 'Siesta and Go' रखा है. Siesta का अर्थ होता है, 'दोपहर का आराम'. इस Nap Bar में न सिर्फ़ सोने के लिए बिस्तर हैं, बल्कि ऑफ़िस का काम निपटाने और किताब या अख़बार पढ़ने के लिए आमदायक कुर्सी की भी सुविधा दी गई है.

इस Nap Bar को शुरू करने वाली Maria का कहना है कि हमारे यहां दिन में बहुत से सूट पहने हुए आदमी आते हैं और इतनी ही संख्या में महिलाएं भी आती हैं, जो ऊंची हील्स को निकालकर कुछ पल आराम करना चाहती हैं. दोपहर का समय काफ़ी व्यस्त करने वाला रहता है.

Source - Starmedia

Maria का ये Nap Bar का आइडिया ऑरिज़नल आइडिया नहीं हैं. इसके तार जापान से जुड़े हैं. Maria बताती हैं कि जापान की राजधानी टोकियो में ऐसे कई छोटे होटल्स हैं, जिन्हें 'कैप्सूल होटल्स' या 'नैप कैफ़े' कहते हैं. ये नैप कैफे, दोपहर के समय लोगों को आराम करने के लिए जगह देते हैं. जापान में दोपहर में झपकी लेना अच्छे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक माना गया है.

Maria, जापान की इस परंपरा से काफ़ी प्रभावित हुईं. उन्हें स्पेन के कर्मचारियों के काम करने का तरीका जापान से काफ़ी अलग लगा. स्पेन में काम करने के लिए अलग-अलग ब्लॉक निर्धारित हैं. कभी-कभी मीटिंग दोपहर से लेकर देर रात तक होती रहती है. यहां तक कि कभी-कभार दोपहर के खाने का समय भी एक- दो घंटे पीछे हो जाता है.

Source - Telegraph

ऑर्गेनाइज़ेशन फ़ॉर इकोनोमिक कॉर्पोरेशन एंड डेवलेपमेंट की एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल स्पेन ने अपने पड़ोसी देश जर्मनी और फ़्रांस को पछाड़ते हुए रिकॉर्ड 1695 घंटे काम किया.

IESE बिज़नेस स्कूल, बार्सिलोना के प्रोफ़ेसर Nuria Chinchilla कहते हैं कि, जब यूरोप सो जाता है, तब भी स्पेन जाग रहा होता है, हम एक ग़लत टाइम ज़ोन में रह रहे हैं. सारा देश देरी से चलता है और यहां कॉर्पोरेट के नियम काफ़ी सख़्त हैं. लंबी शिफ़्ट के कारण कर्मचारी काफ़ी थक जाते हैं. इसके कारण स्पेन के लोगों की काम करने की क्षमता काफ़ी घट रही है. इसका संबंध देश के जन्म दर में आई गिरावट के साथ भी जोड़ा जा सकता है. स्पेन के कर्मचारियों की सारी ऊर्जा और समय ऑफ़िस में काम करने में ख़त्म हो जाती है.

Source - Telegraph

Nuria Chinchilla, 2012 की एक रिसर्च रिपोर्ट का हवाला देकर कहते हैं कि अगर देश के टाइम ज़ोन को एक घंटे पीछे कर पुर्तगाल और यूके के समान कर दिया जाता है, तो इससे देश के कर्मचारियों के कार्यक्षमता में काफ़ी बढ़ावा हो सकता है.

ये मुद्दा स्पेन के लोगों के लिए काफ़ी महत्वपूर्ण है. स्पेन की संसद में भी ये मुद्दा उठाया जा चुका है. कई बड़ी पार्टियां काम के घंटों में कटौति करने के वादे भी कर चुकी हैं. स्पेन के प्रधानमंत्री Mariano Rajoy ने पिछले साल चुनाव प्रचार के दौरान काम के घंटों को शाम के 6 बजे तक निर्धारित करने का वादा किया था. इसी प्रकार के वादे दूसरी पार्टियों ने भी किये थे.

Source - Telegraph

राजनैतिक पार्टियां अपने किए वादे पर न जाने कब ऐतबार करेंगी, लेकिन Maria का Nap Bar थके हुए स्पेनिश कर्मचारियों के लिए राहत भरे पल ज़रूर लेकर आया है. Maria के Nap Bar में 19 बिस्तर हैं, जो यहां आने वाले मेहमान को न सिर्फ़ झपकी, बल्कि नई बेड शीट, इयर प्लग, न्यूज़पेपर्स, स्लीपर्स और तरोताज़ा रखने के लिये कॉफ़ी की सुविधा भी प्रदान करता है. इस Nap Bar में रोज़ाना करीब 30 लोग आते हैं. यहां आने वाले ज़्यादातर कर्मचारी 20 से 30 साल के हैं.

इस Nap Bar में प्रति मिनट या घंटे के हिसाब से पेमेंट किया जा सकता है. एक घंटे की झपकी के लिए आपको तकरीबन 1000 रुपये तक ख़र्च करने पड़ सकते हैं. अगली बार आप जब भी मैड्रिड जाएं, तो शॉपिंग और खाने-पीने के साथ यहां के Nap Bar में झपकी लेना न भूलें.

Source - Telegraph And Refinery29