गर्म निरोधक कई तरह के होते हैं, लेकिन महिलाओं से ज़्यादा अब पुरुषों के लिए ऐसी दवाइयों पर शोध चल रहा है. वैज्ञानिक लम्बे समय से इस पर शोध कर रहे हैं. इस शोध से पता चला है कि दुनिया के दो ऐसे जंगली पौधे हैं, जिससे निकलने वाले रसायन से ऐसी दवा बनाई जा सकती है.

कुकरौंधा और थंडर गॉड वाइन के पौधे लम्बे समय से दवाइयां बनाने के काम आ रहे हैं. लेकिन इस शोध के बाद वैज्ञानिकों ने पाया है कि इन पौधों की जड़ का इस्तेमाल कर के पुरुषों के लिए गर्भनिरोधक दवाइयां बनाई जा सकती हैं.

इस रिसर्च पर काम कर रहे एक शोधकर्ता का कहना है कि 'अगर ये दवाई बन गई तो मेडिकल फ़ील्ड में ये एक नया मोड़ होगा'.

लेकिन वैज्ञानिकों के लिए सबसे बड़ी समस्या ये है कि इनकी जड़ों में मिलने वाला रसायन काफ़ी कम मात्रा में होता है और इसे निकालना उतना ज़्यादा ही खर्चीला भी. समस्या यहीं खत्म नहीं होती, वैज्ञानिक ये भी तलाश रहे हैं कि ऐसे पौधे उन्हें प्रचुर मात्रा में कहां मिलेंगे.

इन पौधों की जड़ों में प्रिस्टिमेरिन और लुपेओल नामक रसायन मिलते हैं, जो शुक्राणुओं को रोकने में काफ़ी मददगार होते हैं. वैज्ञानिकों की मानें तो ये रसायन किसी कंडोम की तरह ही काम करता है और इससे शुक्राणुओं की संख्या में भी कमी नहीं आती. ये दोनों रसायन प्राचीन चीनी दवाओं में भी इस्तेमाल किए जाते थे. थोड़ी सी मात्रा के सेवन से ही ये अपना असर दिखाना शुरू कर देते हैं और दूसरी दवाओं की तरह इसका कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं है.

Image Source: BBC