अभी कल ही की बात है, ऑफ़िस में हम सब चर्चा कर रहे थे कि हमारा बचपन कितना अच्छा था. शक्तिमान और सोन परी के वो दिन हमें आज भी याद आते हैं. Malgudi Days, तू तू मैं मैं, Yes Boss, Left Right Left के साथ हमने बचपन जिया.

बड़ों के सीरियल्स भी सही ही थे. चाहे वो 'कहानी घर घर की' हो या 'क्योंकि सास भी कभी बहू थी'. ये अलग बात है कि अब हम उन सब डेली सोप्स का मज़ाक उड़ाते नहीं थकते. पर ये सच है कि बचपन में ऐसे शोज़ को बर्दाशत करने की हिम्मत हम सभी में थी.

Source: Spotboye, Voot

अब जो टीवी शो आते हैं, उसमें या तो नाग-नागिन वाली नौटंकी होती है, या पुनर्जनम वाली. 'नागिन' और 'ससुराल सिमर का' के बारे में तो आपने भी सुना ही होगा.

अभी हम इन सब से उबर ही रहे थे कि सोनी टीवी ने हमें एक और झटका दे दिया. 'पहरेदार पिया की' नाम के इस नए शो का प्रोमो रीलिज़ किया गया. प्रोमो इतना बचकाना है कि आप भी कहेंगे, 'क्या हुतियापा है!'

Source: Firstpost

प्रोमो देखकर लगा कि ये एक प्रेम कहानी है, वो भी एक 18 साल की लड़की और एक 10 साल के बच्चे की. प्रोमो की शुरुआत में ही अच्छे राजस्थानी लुक वाले महल में लड़की आवाज़ लगाते हुए पूछती है,'रतन-सा, अगर आप तैयार हैं तो चलें?' आवाज़ देने के बाद वो Drawer से बंदूक निकालकर पर्स में रखती है, सच्ची की पहरेदार है भाया यो तो.

यो रतन-सा वही 10 साल का बच्चा है. बच्चा आता है, लड़की उसे टीका लगाती है.

फिर बच्चे को देखकर मुंह बनाती है, 'Perfect' कहती है. इसके बाद आता है वो खौफ़नाक मंज़र. बच्चा उस लड़की की मांग भरता है, ख़ुशी के मारे लड़की की आंखें भर आती है. और हमारी ज़बान पर अच्छे-अच्छे विशेषण भर आए.

Source: Story Pick

इस शो में स्वरागनी फ़ेम अभिनेत्री तेजस्वी प्रकाश ने राजकुमारी दिया का किरदार निभाया है और अफ़ान खान ने 10 साल के राजकुमार रतन सिंह का. माना कि पहले के ज़माने में ऐसी शादियां होती थी, पर क्या ऐसा टी.वी. पर दिखाना ज़रूरी है?

सोनी टेलिविज़न पर जो नया शो आ रहा है उसने हमें अंदर तक हिला दिया है. जब से शो के बारे में सुना है, समझ में नहीं आ रहा कि इंटरटेंमेंट के नाम पर क्या ये कुछ भी परोस देंगे?

ख़ैर ये सब किसी भी संस्कृति के पहरेदारों को तो दिखने से रहा और हमारा फ़र्ज़ है लिखना, तो हम भी अपना फ़र्ज़ निभाये जा रहे हैं.