जबलपुर के कुवंर बहादुर पांडे जैसे ही पिता बने उनके नाम एक अनोखा इतिहास लिखा गया. पांडे जी का नवजात शिशु देश का पहला ऐसा बच्चा बन गया, जिसके पैदा होने के 6 मिनट के अंदर ही उसका आधार कार्ड बना दिया गया.

एक तरफ़ ऑपरेशन थिएटर में डिलीवरी के बाद पांडे जी की पत्नि की सर्जरी हो रही थी, उसी दौरान हॉस्पिटल में E-Governance के इंचार्ज चित्राशु त्रिपाठी अपनी टीम के साथ वहां पहुंचे और डॉक्टर्स से आधार कार्ड की जागरुकता में बात करने लगे, इसी बीच उन्होंने नवजात के आधार कार्ड बनाने की बात कही.

उनकी टीम ने बिना देरी किए मात्र 6 मिनट में बच्चे का आधार कार्ड बना दिया. अभी इस बच्चे का आधार कार्ड उसके पिता के कार्ड से लिंक रहेगा. जैसे ही बच्चे का नामकरण हो जाएगा, उसे बदल दिया जाएगा.

मध्य प्रदेश में बच्चों के बनने वाले आधार कार्ड की संख्या बहुत कम है. Unique Identification Authority of India (UIDAI) ने राज्य के हर जिले को निर्देश दिए हैं कि हर हॉस्पिटल में एक स्पेशल टीम नियुक्त की जाए और हर नवजात का आधार कार्ड बनाया जाए.

इस निर्देश के बाद हर जिले में टीम बनाई गई है और हॉस्पिटल्स में जा कर ये टीम आधार कार्ड का महत्व हर किसी को समझा रही है. आधार कार्ड के ज़रिए कोई भी अपने बच्चे के लिए सरकार द्वारा शुरू की गई स्कीम का लाभ उठा सकता है.

Image Source: Jagran