किसी भी फ़ील्ड में महिलाओं ने अपनी जगह बनाने और शीर्ष पद पाने के लिए बहुत संघर्ष किया है. मगर अभी भी कुछ क्षेत्र ऐसे हैं जहां उनका ये संघर्ष आज भी जारी है. यहां आय की असमानता और कम अवसर जैसी परेशानियों से भी औरतें जूझ रही हैं.



चलिए जानते हैं वो कौन-सी 10 जॉब्स हैं जहां पुरुषों का दबदबा आज भी कायम है.

1. सॉफ़्टवेयर डेवलपर 

टेक्नोलॉजी की दुनिया में अभी भी महिलाएं बहुत पीछे हैं. इस फ़ील्ड में अभी 19 प्रतिशत महिलाएं ही बतौर सॉफ़्टवेयर डेवलपर काम कर रही हैं.

techgig

2. निर्माण उद्योग 

निर्माण उद्योग में महिलाओं को समर्थन और सशक्तिकरण की ज़रूरत है. इस क्षेत्र में 9 प्रतिशत महिलाएं ही कार्य कर रही हैं.

istockphoto

3. वित्तीय विश्लेषक 

Financial Analysts वित्तीय डेटा का विश्लेषण कर लोगों को व्यावसायिक निर्णय लेने और भविष्यवाणियां (आर्थिक) करने में मदद करते हैं. इस फ़ील्ड में 39 प्रतिशत महिलाएं कार्यरत हैं.

sauvewomen

4. किसान 

खेती के क्षेत्र में भी महिलाएं पुरुषों से पिछड़ रही हैं. 24% महिलाएं ही खेती के कामों से जुड़ी हैं. यहां उनके लीडरशिप की भी कमी है.

asianage

5. Aerospace Engineer 

Aerospace इंजीनियर्स रॉकेट, सैटेलाइट और विमान आदि के डिज़ाइन करते हैं. यहां 7 प्रतिशत महिलाएं ही काम कर रही हैं.

sharda

6. फ़िल्म मेकिंग/एडिटिंग

वैसे तो इस फ़ील्ड में महिलाएं बहुत ही अच्छा कार्य कर रही हैं. मगर फिर इस फ़ील्ड में भी उनका प्रतिशत बस 21 है.

pinimg

7. Architect 

वास्तुकला की पढ़ाई करने में तो महिलाएं आगे हैं मगर फिर भी यहां उनकी बहुत कमी दिखाई देती है. केवल 25% महिलाएं ही बतौर आर्किटेक्ट काम कर रही हैं.

thinkingthefuture

8. पुजारी 

दुनियाभर में पुजारियों/पादरियों के रूप में बहुत कम महिलाएं ही दिखाई देती हैं. धर्म-कर्म के इस क्षेत्र में 19 प्रतिशत महिलाएं काम कर रही हैं.

religionnews

9. फ़ायर फ़ाइटर 

Firefighter यानी आग बुझाने वाले कर्मचारी अधिकतर पुरुष ही होते हैं. इस फ़ील्ड में बहुत कम महिलाएं अपना करियर बनाने की सोचती हैं. यहां 3 फ़ीसदी महिलाएं ही कार्य कर रही हैं.

nasscomfoundation

10. पायलट 

केवल 5 फ़ीसदी महिलाएं ही प्लेन उड़ाने का कार्य कर रही हैं. पूरी दुनिया में महिला पायलट्स की बहुत कमी है.

wordpress

इन फ़ील्ड्स में महिलाओं को आगे लाने के लिए प्रोत्साहन और उन पर भरोसा करने की ज़रूरत है.