हिंदुस्तान में कोरोना का कहर चरम पर पहुंच चुका है. हर दिन कोरोना मरीज़ों की संख्या बढ़ती जा रही है. हॉस्पिटल में बेड्स, ऑक्सीजन और दवाओं की कमी बुरा मंज़र बयां कर रहे हैं. जिधर देखो उधर से बस बुरी ख़बर सामने आ रही है. संकट की इस घड़ी में कई देश भारत की मदद के लिए सामने आये हैं. इस समय हर किसी की एक ही मंशा है कि किसी तरह देश को इस संकट से निकाला जा सके.

COVID 19
Source: bbc

आइये जानते हैं कि मुसीबत के समय में कौन-कौन से देश हमारी मदद को आगे आये हैं: 

1. अमेरिका 

संकट की इस घड़ी में अमेरिका, हिंदुस्तान को कोरोना से लड़ने के लिये सभी आपातकालीन मदद दे रहा है. रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका कोविशील्ड टीके के लिये भारतीय निर्माताओं को कच्चा माल देने के लिये लगा हुआ है. इसके साथ ही राष्ट्रपति जो बाइडन ने स्वास्थ्यकर्मियों को हर ज़रूरी मदद पहुंचाने का निर्देश दिया है.  

2. सऊदी अरब 

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान भारत में भारी मात्रा में ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी है. इसलिये सऊदी अरब ने हिंदुस्तान को ऑक्सीजन देने का फ़ैसला किया है. कोरोना से जंग जीतने के लिये सऊदी अरब की तरफ़ से 80 मीट्रिक टन ऑक्सीजन देने का फ़ैसला किया है.  

3. ब्रिटेन  

भारत पर आये इस संकट के समय में ब्रिटेन भी हमारी सहायता को आगे आया है. बीते रविवार ब्रिटेन की तरफ़ से ऑक्सीजन, वेंटिलेटर और अन्य ज़रूरी मेडिकल उपकरण देने की घोषणा की है. रिपोर्ट के अनुसार, ब्रिटेन की तरफ़ से 600 चिकित्सा उपकरण भारत पहुंचाये जायेंगे. इसके साथ ही वहां के पीएम बोरिस जॉनसन का कहना है कि वो इस मुश्किल घड़ी में भारत के साथ हैं.  

4. जर्मनी

कोविड-19 से उभरने के लिये जर्मनी भी भारत की सहायता को आगे आया है. जर्मनी की तरफ़ से हमें 23 मोबाइल Oxygen Generation Plants पहुंचाने का वादा किया गया है, जो कि इस सप्ताह पहुंचने की उम्मीद है.  

5. फ़्रांस  

कठिन हालातों में फ़्रांस के राष्ट्रपति Emmanuel Macron ने भी भारत का साथ देने का फ़ैसला किया है. फ़्रांस भारत की मदद कैसे करेगा, ये फ़ैसला India-EU Summit के दौरान Brussels में 8 मई को किया जायेगा.  

6. सिंगापुर  

बीते शनिवार को सिंगापुर ने चार क्रायोजेनिक आक्सीजन कंटेनर भारत पहुंचाये हैं. इन्हें भारतीय वायु सेना की मदद से भारत लाया गया है. यही नहीं, सिंगापुर सरकार का कहना है कि ज़रूरत के मुताबिक आने वाले समय में भारत में और कंटेनर पहुंचाये जा सकते हैं.  

7. पाकिस्तान  

हमारापड़ोसी मुल्क पाकिस्तान भी संकट की घड़ी में हमारे साथ है. पाकिस्तान की तरफ़ से भारत को वेंटिलेटर सहित अन्य मेडिकल उपकरण देने की पेशकश की गई है. 

Pakistan
Source: Deccanherald

8. यूके

ख़बर के मुताबिक, यूके की तरफ़ से 140 वेंटिलेटर और 495 ऑक्सीजन जेनरेटर दिल्ली भेजे गये हैं. इसके साथ ही इस हफ़्ते और मदद की उम्मीद की जा रही है.

9. आयरलैंड  

आयरलैंड इस सप्ताह 700 ऑक्‍सीजन कनटेनर्स और 700 ऑक्‍सीजन कन्‍सेनट्रेटर्स भेज सकता है.

10. थाईलैंड  

थाईलैंड की ओर से 4 क्रायोजेनिक ऑक्‍सीजन टैंक और यूएई ने 6 क्रायोजेनिक ऑक्‍सीजन कनटेनर पहुंचाने का वादा किया गया है.  

Covid 19
Source: businessinsider

11. चीन 

रिपोर्ट के मुताबिक, हॉन्ग कॉन्ग की ओर से 800 ऑक्सीजन कन्सेन्ट्रेटर दिल्ली भेजे गये हैं. इसके साथ ही आने वाले समय में 10 हज़ार ऑक्सीजन कन्सेन्ट्रेटर और भेजने की तैयारी है.

12. भूटान  

असम के स्वास्थ्य मंत्री हिमन्ता बिस्वा सरमा का कहना है कि महामारी के समय में भूटान हमें ऑक्सीजन दे कर हमारी सहायता करेगा. कहा जा रहा है कि भूटान के समद्रूप जोंगखर में ऑक्सीजन प्लांट बन रहा है. जैसे ही वो बन कर तैयार होता है, तो वहां से असम रोज़ाना 50 मैट्रिक टन ऑक्सीजन ले सकता है.

कोरोना महामारी से एक बात तो साफ़ हो गई कि हम जितना लड़ लें, लेकिन संकट में सभी देश एक साथ हैं. होना भी चाहिये, क्योंकि यही मानवता है. अब जब इतने देश हिंदुस्तान को बचाने में लगे हैं, तो भला हम कैसे हार सकते हैं. कोरोना की दूसरी जंग भी हम जीत कर रहेंगे, बस आप लोग बिना काम के बाहर मत निकलना. हां इन सभी देशों को दिल से शुक्रिया.