लॉकडाउन का चौथा फ़ेज़ जारी है, लेकिन इसके बाद भी कोरोना वायरस के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. राजधानी दिल्ली में भी तेज़ी से संक्रमित मरीज़ों की संख्या में इज़ाफ़ा देखने को मिल रहा है. ऐसे में दिल्ली में 14 नए कंटेनमेंट ज़ोन बनाए गए हैं. शुक्रवार को सरकार की ओर से जानकारी दी गई है कि ये ज़ोन दक्षिण-पश्चिमी, उत्तरी, उत्तर-पश्चिमी और दक्षिण पूर्वी जिले में बनाए गए हैं. 

Source: timesofindia

दक्षिण-पश्चिम में 6 कंटेनमेंट ज़ोन 

पिछले कुछ दिनों में विकासपुरी, पालम और कंगनहेरी गांव के एक क्लस्टर में 39 कोविड-19 मामलों के सामने आने के बाद दक्षिण-पश्चिम जिले में छह नए कंटेनमेंट ज़ोन जोड़े गए. 

दक्षिण-पश्चिम जिला प्रशासन के अधिकारियों के अनुसार, छह नियंत्रण क्षेत्रों में से तीन विकासपुरी में, दो पालम में और एक कांगनहेरी गांव में स्थित हैं. 

नए जोड़े जाने वाले ज़ोन दीप एनक्लेव, पार्ट-2, विकासपुरी; DG3 ब्लॉक, विकासपुरी; गली नम्बर-3, गांव कंगनहेरी; पूरन नगर, पालम कॉलोनी; F-ब्लॉक, विकासपुरी; और गली नम्बर-46, साध नगर, पालम कॉलोनी हैं. 

Source: indiatoday

शुक्रवार को जिला मजिस्ट्रेट (दक्षिण-पश्चिम) कार्यालय के एक अधिकारी ने बताया, ‘दीप एनक्लेव से चार, DG3 ब्लॉक विकासपुरी से सात, कंगनहेरी गांव से आठ, पूरन नगर से चार, F-ब्लॉक विकासपुरी से आठ और पालम कॉलोनी में साध नगर से आठ कोविड-19 के केस सामने आए. ये मामले पिछले 3-4 दिनों में सामने आए थे. कंटेनमेंट ऑपरेशन 2-3 दिन पहले शुरू किया गया था.' 

इन इलाकों में 8 कंटेनमेंट ज़ोन 

दक्षिण-पश्चिम जिले के छह कंटेनमेंट ज़ोन के अलावा EE-ब्लॉक जहांगीरपुरी, E-2 ब्लॉक जहांगीरपुरी, लालबाग आजादपुर, D-1 जहांगीरपुरी, JJ कैम्प बादली, C-ब्लॉक मंगोलपुरी, उत्तर पश्चिम जिले में नाहरपुर गांव और दक्षिण-पूर्व जिले में सनलाइट कॉलोनी-1 में नए कंटेनमेंट ज़ोन बनाए गए हैं. 

Source: newindianexpress

इसके साथ ही राष्ट्रीय राजधानी में कंटेनमेंट ज़ोन की संख्या बढ़कर 92 हो गई है. सरकार ने पूर्वी दिल्ली के एक क्षेत्र B-ब्लॉक न्यू अशोक नगर को डी-कंटेन भी किया है. सरकार अब तक ऐसे 34 इलाकों को डी-कंटेन कर चुकी है, जहां पिछले 28 दिनों में एक भी कोविड-19 से जुड़ा नया मामला रिपोर्ट नहीं हुआ है. 

बता दें, दिल्ली के अंदर बीते 24 घंटे में कोरोना के सर्वाधिक 660 पॉज़िटिव केस मिले हैं, जिसके बाद संक्रमितों की संख्या बढ़कर 12 हज़ार के पार चली गई है. वहीं, अब तक 208 मरीज़ों की मौत हो चुकी है.