लखनऊ के पॉलिटेक्निक चौराहे से गुज़रेंगे तो अब आपको सूनी पड़ी दीवारें नहीं, बल्कि भारत की रंग-बिरंगी विरासत और संस्कृति नज़र आएगी. यहां सड़क किनारे कई उम्दा कलाकार आपको दीवारों पर भित्ति चित्र पेंट करते दिख जाएंगे.

दीवारों पर ख़ूबसूरत चित्र उकेरने का काम 'वेव मॉल' के साथ-साथ बनी दीवारों और आसपास में चल रहा है. इसका मकसद वीरान पड़ी दीवारों को शानदार और रंग-बिरंगी पेटिंग्स से सजाना है, ताकि यहां से गुज़रने वाला हर व्यक्ति ख़ुशनुमा फ़ील करे.

इस आर्ट प्रोजेक्ट के ज़रिए भारत की विरासत और संस्कृति को चित्रों के ज़रिए प्रदर्शित किया जा रहा है. साथ ही कुछ ऐसी भी पेटिंगस बनाई जा रही हैं, जिनका ज़िक्र ऐतिहासिक और धार्मिक ग्रंथों में हुआ है. ये कलाकृतियां बेहद ख़ूबसूरत हैं और हाथ से पेंट किए गए इन भित्ति चित्रों ने वाकई में इस एरिया में एक नई जान डाल दी है.

हालांकि, ये पहली बार नहीं है, जब लखनऊ की दीवारों पर इस तरह का आर्टवर्क हो रहा है. इसके पहले भी LDA ने शहीद पथ और अन्य स्थानों की दीवारों को इस तरह के भित्ति चित्र से सजाया था.

हम बस उम्मीद कर सकते हैं कि लखनऊ के और भी चौराहों को इसी तरह से सजाया जाएगा और सबसे ज़रूरी कि लोग इन्हें गंदा नहीं करेंगे.