दुनिया अगर बेईमान लोगों से भरी पड़ी है, तो कई ईमानदार लोग भी हैं. एक ऐसे ही ईमानदार शख़्स की कहानी बेंगलुरु से भी सामने आई है. रिपोर्ट के अनुसार, एक ऑटो वाले ने 10 लाख रुपये से भरा बैग लौटा कर ईमानदारी का बड़ा उदाहरण पेश किया है. ये घटना शेषाद्रीपुरम की है. ऑटो चालक का नाम रमेश बाबू नायक है.

rickshaw driver
Source: India Times

क्या है मामला?

डॉ. एम. आर. भास्कर नामक व्यक्ति रमेश बाबू के ऑटो में अपना बैग भूल गए थे, जिसमें 10 लाख रुपये और फ़ोन था. वहीं जब शेषाद्रीपुरम पुलिस स्टेशन से उनके मोबाइल पर कॉल गई, तो रमेश बाबू ने तुरंत पुलिस स्टेशन पहुंच कर कैश से भरा बैग पुलिस को सौंप दिया. नायक की ईमादारी से खु़श होकर सिटी पुलिस कमिश्‍नर भास्‍कर ने उसे सम्मानित किया है. इसके साथ ही ईनाम के तौर पर पांच हज़ार रुपये कैश भी दिये हैं.

ख़बर के मुताबिक, डॉ. एम. आर. भास्कर भारतीय नागरिक हैं, जो कि मालदीव में रहते हैं. नायक एक बस स्टैंड के बाहर सवारी के इंतज़ार में खड़ा था, तभी उसने डॉक्टर साहब की ओर देखते हुए उनसे कहीं जाने के लिये पूछा. डॉक्टर साहब भी नायक की ऑटो में सवार होकर शेषाद्रीपुरम स्थित अपने होटल तक पहुंचे. होटल पहुंचते ही उन्हें एहसास हुआ कि वो अपना बैग ऑटो में ही भूल गये हैं.

auto driver
Source: Nai Duniya

इसके बाद क्या हुआ वो आप जानते ही हैं. 60 वर्षीय नायक की मदद से उन्हें उनका कैश से भरा बैग वापस मिल गया.

कुछ लोगों के लिये ईमानदारी ही उनकी पूंजी होती है, नायक भी उन्हीं लोगों में से एक है.

News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.