हाल ही में 1984 के सिख दंगों पर एक वेब सीरीज़ रिलीज़ हुई है जिसका नाम है ‘ग्रहण’. इस वेब सीरीज़ के ख़िलाफ़ कोर्ट में याचिका दायर की गई है. याचिकाकर्ता का आरोप है कि इसमें सिखों की छवि बिगाड़ने की कोशिश की गई है. ग्रहण में 1984 में बोकारो में हुए दंगे की कहानी है.

पूर्व पीएम इंदिरा गांधी की हत्या के बाद बोकारो में भी सिखों को दूसरे समुदाय के लोगों की नफ़रत का शिकार होना पड़ा था. 37 साल पहले हुए ये नरसंहार कब और कैसे हुआ इसकी असली कहानी हम लेकर आए हैं.

1984 riots news
Source: Twitter

31 अक्टूबर 1984 की रात को बोकारो की गलियां भी इस दंगे की आग की लपटों का शिकार हुई थी. इंदिरा गांधी की हत्या के बाद पूरे देश में सिखों को हिराकत भरी निगाहों देखा जाने लगा था. इसका फ़ायदा कुछ असामाजिक तत्वों ने उठाया. उन्होंने लोगों की पीड़ा को सिखों के प्रति घृणा में बदल दिया और उनसे बदला लेने के लिए बरगलाया. भड़काऊ भाषण दिए गए और फिर उन्मादी भीड़ ने जो किया वैसा शायद इस देश में सिखों के साथ कभी नहीं हुआ होगा.

ये भी पढ़ें: सरदार ऊधम सिंह: वो क्रांतिकारी जो जालियांवाला बाग नरसंहार का बदला लेने के लिए सूली पर चढ़ गया

1984 carnage
Source: wordpress

बोकारो में चुन-चुनकर सिखों के घरों को टारगेट किया गया. उनकी दुकानें लूट ली गईं. उनके घरों को आग के हवाले कर दिया गया और सिख समुदाय के लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, बोकारो शहर में 100 से अधिक सिखों ने अपनी जान गंवाई थी.

1984 riots
Source: openthemagazine

ख़बरों में ये दावा किया गया कि इस दंगे के पीछे एक स्थानीय कांग्रेस अध्यक्ष और पेट्रोल पंप के मालिक पी.के. त्रिपाठी का हाथ था. उसने अल्पसंख्यक समुदाय पर हमला करने के लिए भीड़ को मिट्टी का तेल वितरित किया था, लेकिन इस नरसंहार के 37 साल गुज़र जाने के बाद भी आज भी दंगा पीड़ितों को न्याय नहीं मिल पाया है. 

Bokaro 1984 carnage
Source: indianexpress

बोकारो में हुए उस नरसंहार की भयावहता को याद कर आज भी पीड़ित सिहर जाते हैं. बोकारो नरसंहार 1984 हमारे इतिहास का एक ऐसा ख़ूनी पन्ना है जिसे जब भी पढ़ा जाएगा दिल दहल जाएगा. इसे न तो हम भुला सकते हैं और न ही इससे मुंह मोड़ सकते हैं.