इस साल के नोबेल पुरस्कार की घोषणा अक्टूबर में की गई थी. इसमें भारतीय मूल के अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी का भी नाम था. स्वीडन में बीते मंगलवार को हुए एक कार्यक्रम में उन्हें नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया. इस समारोह में अभिजीत बनर्जी और उनकी पत्नी एस्थर डुफ़्लो भारतीय परिधानों में पहुंचे थे. उनके इस कदम की सोशल मीडिया पर तारीफ़ हो रही है.

Source: twitter

स्वीडन में हुए इस नोबेल पुरस्कार वितरण समारोह में डॉक्टर अभिजीत बनर्जी बंद गले के कोट और धोती पहने हुए नज़र आए. वहीं उनकी पत्नी एस्थर डुफ़्लो साड़ी पहने दिखाई दीं. वहीं उनके साथी Michael Kremmer सूट पहनकर ये पुरस्कार लेने पहुंचे थे.

Source: twitter

नोबेल प्राइज़ कमेटी ने इसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया है. अभिजीत और उनकी पत्नी के भारतीय परिधान ख़ासकर उनके बंगाली टच को ख़ूब सराहा जा रहा है. इस तरह से उन्होंने अपनी मातृभूमि को ट्रिब्यूट देने की कोशिश की है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस साल अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार संयुक्त रूप से अभिजीत बनर्जी, एस्थर डुफ़्लो और Michael Kremmer को दिया गया है. उनके द्वारा वैश्विक स्तर पर ग़रीबी को दूर करने के लिए प्रयासों के लिए ये सम्मान दिया गया है.

नोबेल कमेटी का कहना है कि बीते दो दशक में इन तीनों के नए प्रयोगात्मक दृष्टिकोण ने डवलेपमेंट इकोनॉमिक्स को पूरी तरह बदल दिया है. अवॉर्ड के रूप में उन्हें क़रीब 6.5 करोड़ रुपये मिले हैं, जो तीनों में बाटें जाएंगे.

Source: twitter

मुंबई में जन्में अभिजीत बनर्जी दूसरे भारतीय हैं जिन्हें अर्थशास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. इससे पहले 1998 में भारतीय मूल के अर्थशास्त्री अमर्तय सेन को ये पुरस्कार दिया गया था.

अभिजीत और उनकी पत्नी दोनों Massachusetts Institute of Technology (MIT) के अर्थशास्त्र विभाग में प्रोफ़ेसर हैं. दोनों ने मिलकर Abdul Latif Jameel Poverty Action Lab की स्थापना भी की है. वहीं Kremmer Harvard University में अर्थशास्त्र पढ़ाते हैं.

News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.