भारत में हर युवा यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (Union Public Service Commission) की परीक्षा पास करने का सपना देखता है, लेकिन इसमें सफल हो पाना हर किसी के बस की बात नहीं है. ये भारत की सबसे मश्किल परीक्षाओं में से एक है. देश में हर साल लाखों युवा IAS और IPS अधिकारी बनने का सपना लेकर 'सिविल सर्विसेज़' की परीक्षा में बैठते हैं. इस कठिन परीक्षा को पास करने के लिए युवा सालों साल कड़ी मेहनत करते हैं, लेकिन परीक्षा में बैठे लाखों युवाओं में से किसी-किसी के सपने ही साकार हो पाते हैं. इस दौरान जो कैंडिडेट्स सफ़ल होते हैं उन्हें IAS, IPS, IRS और IFS अधिकारी के तौर पर देश की सेवा करने का मौक़ा मिलता है.

ये भी पढ़ें- जानते हो एक IAS अधिकारी की सैलरी कितनी होती है और उसे कौन-कौन सी सुविधाएं मिलती है?

UPSC Exam
Source: dnaindia

बता दें कि UPSC सिविल सेवा परीक्षा पास करने के बाद सभी चयनित उम्मीदवारों को मसूरी स्थित 'लाल बहादुर शास्त्री ट्रेनिंग अकेडमी' और हैदराबाद स्थित 'सरदार वल्लभभाई पटेल राष्ट्रीय पुलिस अकेडमी' में ट्रेनिंग के लिए बुलाया जाता है, जहां से उनका अधिकारी बनने का सफ़र शुरू होता है. इस प्रशिक्षण समय के पहले महीने में इन अफ़सरों को कोई भी वेतन नहीं मिलता है. इनका वेतन इनके पद और पदोन्नति (प्रमोशन) के आधार पर बढ़ता है. 

UPSC
Source: zeenews

आईये जानते हैं IAS, IPS, IRS और IFS अधिकारियों को कितनी सैलरी मिलती है?

1- कितनी होती है IAS अधिकारी की सैलरी?

7th Pay Commission के अनुसार, अब हर एक IAS अफ़सर को उसके बेसिक वेतन और TA, DA, HRA के अनुसार ही प्राप्त होती है. किसी भी IAS अधिकारी की प्रारंभिक सैलरी 56,100 रुपये प्रति महीने होती है. इस दौरान SDM/अवर सचिव/सहायक सचिव रैंक के अधिकारियों को क़रीब 4 साल यही सैलरी दी जाती है. 

IAS
Source: indiatimes

-अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट (ADM) रैंक के अधिकारी जिनको 5 से 8 वर्ष का अनुभव होता है उन्हें 67,700 रुपये प्रति महीने सैलरी मिलती है.  

-ज़िला मजिस्ट्रेट/संयुक्त सचिव/उप सचिव रैंक के अधिकारी जिनको 9 से 12 वर्ष का अनुभव होता है उन्हें 78,800 रुपये प्रति महीने सैलरी मिलती है.  

-ज़िला मजिस्ट्रेट/विशेष सचिव/निदेशक रैंक के अधिकारी जिनको 13 से 16 वर्ष का अनुभव होता है उन्हें 1,18,500 रुपये प्रति महीने सैलरी मिलती है.  

-डिविज़नल कमिश्नर/ सचिव-सह-आयुक्त रैंक के अधिकारी जिनको 16 से 24 वर्ष का अनुभव होता है उन्हें 1,44,200 रुपये प्रति महीने सैलरी मिलती है.  

-प्रमुख सचिव/अपर सचिव रैंक के अधिकारी जिनको 25 से 30 वर्ष का अनुभव होता है उन्हें 1,82,200 रुपये प्रति महीने सैलरी मिलती है.  

-अपर मुख्य सचिव रैंक के अधिकारी जिनको 30 से 33 वर्ष का अनुभव होता है उन्हें 2,05,400 रुपये प्रति महीने सैलरी मिलती है.  

-प्रमुख शासन सचिव/सचिव रैंक के अधिकारी जिनको 35 से 36 वर्ष का अनुभव होता है उन्हें 2,25,000 रुपये प्रति महीने सैलरी मिलती है.  

-भारत के कैबिनेट सचिव रैंक के अधिकारी जिनको 37+ वर्ष का अनुभव होता है उन्हें 2,50,000 रुपये प्रति महीने सैलरी मिलती है.  

नोट- IFS अधिकारी को मूल वेतन व भत्तों के अलावा कई तरह के भत्ते जैसे मेडिकल, बिजली और पानी का बिल, विदेश में अध्ययन के विकल्प, मुफ्त फ़ोन कॉल, सुरक्षा गार्ड और घरेलू सहायक के अलावा घर व परिवहन की सुवधाएं भी मिलती हैं.

ये भी पढ़ें- ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा ने इन IAS और IPS ऑफ़िसर्स को दिलाए हैं ट्रांसफ़र्स और सस्पेनशन   

2- कितनी होती है IPS अधिकारी की सैलरी?

7th Pay Commission के अनुसार, अब हर एक IPS अफसर को उसके बेसिक वेतन और TA, DA, HRA के अनुसार ही प्राप्त होती है.

IPS Officer
Source: thehindu

-पुलिस उपाधीक्षक को प्रति माह 56,100 रुपये की सैलरी मिलती है.  

-अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को प्रति माह 67,700 रुपये की सैलरी मिलती है.  

-वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को प्रति माह 78,800 रुपये की सैलरी मिलती है. 

-पुलिस उप महानिरीक्षक को प्रति माह 1,31,100 रुपये की सैलरी मिलती है. 

-पुलिस महानिरीक्षक को प्रति माह 1,44,200 रुपये की सैलरी मिलती है. 

-पुलिस महानिदेशक को प्रति माह 2,05,400 रुपये की सैलरी मिलती है. 

-डीजी/आईबी या सीबीआई के निदेशक को प्रति माह 2,25,000 रुपये की सैलरी मिलती है. 

नोट- IPS अधिकारी को मूल वेतन व भत्तों के अलावा कई अन्य तरह के भत्ते जैसे मेडिकल, बिजली और पानी का बिल, विदेश में अध्ययन के विकल्प, मुफ्त फोन कॉल, आवास व परिवहन की सुविधाएं भी मिलती हैं.

3- कितनी होती है IRS अधिकारी की सैलरी?

7th Pay Commission के अनुसार, अब हर एक IRS अफसर को उसके बेसिक वेतन और TA, DA, HRA के अनुसार ही प्राप्त होती है.

IRS Officer
Source: indianmasterminds

-सहायक आयकर आयुक्त को प्रति माह सैलरी 15,600 से 39100 +1400 रुपये ग्रेड वेतन के तौर पर मिलता है.  

-आयकर उपायुक्त को प्रति माह सैलरी 15,600 से 39100 + 6600 रुपये ग्रेड वेतन के तौर पर मिलता है.  

-संयुक्त आयकर आयुक्त को प्रति माह सैलरी 15,600 से 39100 + 7600 रुपये ग्रेड वेतन के तौर पर मिलता है.  

-अतिरिक्त आयकर आयुक्त को प्रति माह सैलरी 37,400 से 67,000 + 8700 रुपये ग्रेड वेतन के तौर पर मिलता है.  

-आयकर आयुक्त को प्रति महीने माह 37,400 से 67,000 + 10000 रुपये ग्रेड वेतन के तौर पर मिलता है.  

-प्रधान आयकर आयुक्त को प्रति माह 75,000 से 80,000 रुपये वेतन के तौर पर मिलते हैं.   

-मुख्य आयकर आयुक्त को प्रति माह 75,000 से 80,000 रुपये वेतन के तौर पर मिलते हैं.   

-प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त को प्रति माह 80,000 रुपये वेतन के तौर पर मिलते हैं.   

नोट- IRS अधिकारी मूल वेतन व भत्तों के अलावा कई अन्य तरह के भत्ते जैसे मेडिकल, बिजली और पानी का बिल, विदेश में अध्ययन के विकल्प, मुफ्त फ़ोन कॉल, पेंशन और सेवानिवृत्ति लाभ, सुरक्षा गार्ड और घरेलू सहायक, अपार्टमेंट (2 या 3 बीएचके) व परिवहन सुविधाएं भी मिलती हैं. 

4- कितनी होती है IFS अधिकारी की सैलरी?

अवर सचिव के रूप में मंत्रालय में शामिल होने के समय एक IFS का कुल वेतन लगभग 60,000 रुपये होता है. इसमें मूल वेतन + एचआरए + डीए + टीए + अन्य भत्ते शामिल भी हैं. यदि किसी उम्मीदवार को विदेशों में पोस्टिंग मिलती है, तो उसका वेतनमान अलग होता है. उम्मीदवार को विशेष विदेशी भत्ते के तहत 2.40 लाख रुपये का वेतन प्राप्त हो सकता है. ये वेतन भी पोस्टिंग वाले देश के आधार पर तय होती है. 

IFS Officer
Source: dnaindia

आपको हमारी ये कोशिश कैसी लगी? कमेंट करके ज़रूर बताइयेगा.  

ये भी पढ़ें- ये हैं देश के कुछ ऐसे IAS और IPS ऑफ़िसर्स, जिनकी ईमानदारी बनी इनकी हत्या का कारण