इंस्पेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस, अब्दुर रहमान ने बीते बुधवार को संसद में नागरिकता संशोधन बिल पास होने के विरोध में इस्तीफ़ा दे दिया.


रिपोर्ट्स के मुताबिक़, आईपीएस अब्दुर रहमान ने 21 सालों तक अलग-अलग पोस्ट पर महाराष्ट्र पुलिस में काम किया.

Source: Mumbai Mirror

ट्वीट करते हुए अब्दुर रहमान ने अपना निर्णय सुनाया. रहमान ने कहा,

'नागरिकता संशोधन बिल 2019 संविधान के मूल रूप का उल्लंघन करता है. मैं इस बिल का विरोध करता हूं. सिविल अवज्ञा करते हुए मैंने कल से दफ़्तर न जाने का निर्णय लिया है. मैं कल से अपनी सर्विस का त्याग करता हूं.'

अपने इस्तीफ़े में रहमान ने ये कहा कि उनकी वीआरएस को गृह मंत्रालय ने स्वीकार नहीं किया है. उन्होंने ये भी कहा कि उनके ख़िलाफ़ कोई Show Cause नोटिस नहीं है. इस लिहाज़ से उनका आवेदन स्वीकार न करना नियमों के ख़िलाफ़ है.


मुस्लिम समुदाय पर उन्होंने 'Denial and Deprivation' नामक किताब भी लिखी है. मुस्लिमों के साथ होने वाले भेदभाव पर है ये किताब.

Source: New Indian Express

रहमान के इस्तीफ़े पर ट्विटर की प्रतिक्रिया: