हम बहुत बार इस बात का ज़िक्र करते हैं कि सोशल मीडिया एक बेहद ही पावरफ़ुल टूल है. इसलिए बेहतर है कि इसका इस्तेमाल हम लोगों की मदद और इंसानियत फ़ैलाने के लिए करें न की नफ़रत के लिए.

पिछले कुछ हफ्तों में हमने सोशल मीडिया के कुछ अच्छे रंग देखें हैं. जहां लोग दूसरों की मदद के लिए बेझिझक आगे बढ़ कर आए हैं. शुरुआत दिल्ली के 'बाबा के ढाबा' से हुई फिर आगरा के 'कांजी बाड़े' वाले और पुणे के 'मटकी भेल' के लिए भी लोगों की हिस्सेदारी देखी गई. 

अब सोशल मीडिया पर मदद का ये सिलसिला मुम्बई जा पहुंचा है. डोंबिवली इलाक़े की फाडेके रोड पर 87 वर्षीय जोशी अंकल हाथ से बने हुए बैग बेचते हैं. जोशी अंकल सोफ़ा और पर्दा बनाने वाले कारीगरों से पुराने कपड़े ख़रीद कर लाते हैं और उन्हें बैग के रूप में सिलकर 40 से 80 रुपये में बेचते हैं.  

जोशी अंकल की ये कहानी एक ट्विटर यूज़र ने शेयर की थी जिसके बाद वो वायरल हो गई है.  

आम जनता से लेकर सेलेब्स भी उनकी मदद के लिए गुहार लगा रहे हैं.