भाई, जब से कोरोना वायरस आया है लोग अपनी सेहत को लेकर कुछ ज़्यादा ही सजग हो गए हैं. ऊपर से दिवाली का माहौल है ऐसे में लोग त्यौहार के शोर-गुल में अपनी या अपनों की सेहत को कतई नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहते. इसलिए पुणेकर्स अपनों की सेहत अच्छी रहे उन्हें शीड क्रैकर और चॉकलेट के बने पटाख़े गिफ़्ट के तौर पर दे रहे हैं.

chocolate crackers
Source: facebook/SweetSiSmile

'स्वीट सी स्माइल' नाम की चॉकलेट शॉप की शेफ़, स्वप्ना सुतार कहती हैं कि, लोग कम से कम पटाख़े इस्तेमाल करें इसलिए इस बार हमने पटाखों के आकार की चॉकलेट्स बनाई हैं. ताकि लोग इस साल 'इको-फ़्रेंडली' दिवाली मना सकें. 

पुणे के फल विक्रेता हर दिवाली के मौक़े पर मीठे और मेवों का हैंपर बेचने के लिए रखा करते थे, लेकिन इस साल कोरोना को ध्यान में रखते हुए उन्होंने लोगों की इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए फलों के हैंपर रखने शुरू कर दिए हैं.

दिवाली के मौक़े पर पौधे गिफ़्ट करना अब काफ़ी आम हो चुका है. 'Rolling Nature' के सचिन कुमार का कहना है, 'जैसे-जैसे लोगों को पता चला कि आम मनी प्लांट और फ़र्न जैसे इनडोर पौधे न केवल ऑक्सीजन देते हैं, बल्कि हवा को भी शुद्ध करते हैं, तो हमारे पास हर रोज़ कई लोग इसकी पूछताछ के लिए आ रहे हैं. 

seed crackers
Source: gramartproject

अभी हाल ही में 'Seed Crackers' के बारे में भी काफ़ी चर्चा हो रही थी. पटाखों से न केवल वातावरण और जान-माल की हानि, बल्कि पशु-पक्षियों को भी काफ़ी परेशानी होती है. लेकिन 'Seed Crackers' आपको जलाने नहीं होते हैं, बल्कि इन्हें आपको मिट्टी में बोना होगा, पानी डालना होगा और इसे एक पौधे के रूप में विकसित करना होगा.