भारत में किसी भी व्यक्ति की जान के ख़तरे को देखते हुए सरकार उसको सुरक्षा प्रदान कर कर सकती है. बहुत ही महत्वपूर्ण व्यक्तियों (VVIPs) को इस तरह की सुरक्षा मुहैया करायी जाती है, जिनको आतंकवादियों, उग्रवादी समूहों या अन्य आपराधिक गिरोहों से ख़तरा होता है. राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, उप-राष्ट्रपति, केंद्रीय मंत्री, सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के न्यायाधीश, लोकसभा के स्पीकर, राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित विषयों से जुड़े काम करने वाले सरकारी अधिकारी और अन्य विशिष्ट व्यक्तियों को इस तरह की सुरक्षा दी जाती है.

Source: Jagran

पद, कार्यभार, इत्यादि को देखते हुए सबको अलग-अलग श्रेणी की सुरक्षा मिलती है. किसी व्यक्ति की जान को कितना ख़तरा है, इसका अंदाज़ा लगाने के बाद सरकार उन्हें इन पांच श्रेणियों की सुरक्षा प्रदान कर सकती है:

1. SPG सुरक्षा

ये अति-विशिष्ट सुरक्षा श्रेणी है. इसके अंतर्गत सिर्फ़ प्रधानमंत्री और उनके निकटम परिवार के सदस्यों को उनके आधिकारिक निवास पर सुरक्षा प्रदान की जाती है. पहले इसके अंतर्गत पूर्व प्रधानमंत्रियों को सुरक्षा प्रदान की जाती थी, मगर अब उन्हें Z+ सुरक्षा कवर दी जाती है. इस श्रेणी की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाबलों की संख्या को गुप्त रखा जाता है. 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद 1988 में SPG का गठन किया गया था.

Source: One India

2. Z+ सिक्योरिटी

ये बहुत उच्चतम स्तर की सुरक्षा श्रेणी है. इसमें 55 सुरक्षाबल होते हैं, जिनमें से 10 NSG कमांडो होते हैं. प्रत्येक कमांडो मार्शल आर्ट में एक्सपर्ट होते हैं. ज़रूरत पड़ने पर व्यक्ति को बुलेटप्रूफ़ वेस्ट और कार, एस्कॉर्ट गाड़िया भी प्रदान की जाती हैं. ज़रूरत के हिसाब से सुरक्षा इंतज़ाम बढ़ाये भी जाते हैं. 20 से भी कम VIPs को ये सुरक्षा मिली हुई है.

3. Z सिक्योरिटी

इस सुरक्षा व्यवस्था में 22 सुरक्षाबल होते हैं, जिनमें से 4 या 5 NSG कमांडो होते हैं. बाक़ी पुलिस या अर्धसैनिक बल होते हैं. एक एस्कॉर्ट गाड़ी के साथ दिल्ली पुलिस या CRPF या ITBP ये सुरक्षा प्रदान करती है.

2 से 8 सुरक्षाबल VIP आवास की सुरक्षा में तैनात रहते हैं, जबकि दो VIP के साथ होते हैं. सड़क पर VIP की गाड़ी के साथ एक आर्म्ड एस्कॉर्ट गाड़ी भी चलती है. VIP को बुलेटप्रूफ़ वेस्ट भी दिया जाता है. इनकी उपस्थिति वाले सार्वजनिक कार्यक्रमों में पुलिस मेटल डिटेक्टर, बम डिटेक्टर जैसे उपकरणों का उपयोग करती है.

Source: navodayatimes.in

4. Y सिक्योरिटी

इस सुरक्षा श्रेणी में 11 सुरक्षाबल होते हैं, जिनमें से 1 या 2 कमांडो होते हैं. इसमें दो Personal Security Officers (PSOs) भी साथ होते हैं. इसमें एक आर्म्ड गार्ड भी VIP के घर पर तैनात किया जाता है. VIP के साथ रहने वाले दो सुरक्षाबलों में से एक के पास 9 mm पिस्तौल और दूसरे के पास स्टेन गन होती है.

5. X सिक्योरिटी

VIP सुरक्षा में ये सबसे हल्की सुरक्षा श्रेणी है. इस सुरक्षा व्यवस्था में सिर्फ़ दो सुरक्षाबल होते हैं, जिनमें से सिर्फ़ एक के पास हथियार होता है.

Source: DailyO

गौरतलब है कि हाल ही में संजय राउत से विवाद के बाद कंगना रनौत को सरकार की तरफ से Y सिक्योरिटी मुहैया कराई गई है.