भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) का Mi-17V5 Helicopter तमिलनाडु (Tamil Nadu) के नीलगिरी जिले के कुन्नूर (Coonoor) में क्रैश (Crash) कर गया है. इस हेलीकॉप्टर में चीफ़ ऑफ़ डिफ़ेंस स्टॉफ़ जनरल बिपिन रावत (Chief of Defence Staff Bipin Rawat) भी सवार थे. बताया जा रहा है कि इसमें जनरल रावत के अलावा उनके परिवार के सदस्यों समेत 13 लोग भी साथ थे. ये हेलीकॉप्टर सुलूर के आर्मी बेस से निकला था और वेलिंग्नटन सैन्य ठिकाने की ओर जा रहा था.

CDS Bipin Rawat

ये भी पढ़ें: CDS Bipin Rawat: जानिए क्या हैं भारतीय सेना के जांबाज़ ऑफ़िसर जनरल बिपिन रावत की उपलब्धियां 

भारतीय वायुसेना(IAF) ने एक ट्वीट के ज़रिए भी इस हादसे की जानकारी दी है. जिसमें कहा गया, 'वायुसेना के Mi-17V5 हेलीकॉप्‍टर,जिसमें सीडीएस जनरल बिपिन रावत सवार थे आज कून्रूर (तमिलनाडु ) के निकट दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया. दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए जांच का आदेश दिया गया है. ' 

तो आइए जानते हैं भारतीय वायुसेना के Mi-17V5 helicopter से जुड़ी 10 ख़ास बातें-

Mi-17V5 helicopter
Source: financialexpress

1. MI-17 सुरक्षित हेलिकॉप्टरों में से एक माना जाता है. इसे रूसी हेलिकॉप्टरों की सहायक कंपनी कज़ान हेलिकॉप्टर बनाती है. 

2. साल 2008 में भारत सरकार ने रूस के साथ 80 Mi-17V5 हेलीकॉप्टर ख़रीदने के लिए समझौता किया था. इसकी तैनाती सेना और आर्म्स ट्रांसपोर्ट में भी की जाती है. साथ ही, सर्च ऑपरेशनों, पट्रोलिंग, राहत एवं बचाव अभियानों में भी इसका इस्तेमाल होता है.

3. Mi-17V5 मीडियम-लिफ्टर किसी भी प्रतिकूल परिस्थिती में उड़ान भर सकता है. इनमें उष्णकटिबंधीय और समुद्री जलवायु से लेकर रेगिस्तानी परिस्थितियों में भी उड़ान भरने की क्षमता है. इसलिए इसे दुनिया के सबसे एडवांस ट्रांसपोर्ट हेलीकाप्टरों में से एक माना जाता है.

IAF
Source: cloudfront

4. हेलीकॉप्टर स्टारबोर्ड स्लाइडिंग डोर, पैराशूट उपकरण, सर्चलाइट और आपातकालीन फ्लोटेशन सिस्टम से लैस है.

5. Mi-17V5 हेलीकॉप्टर का अधिकतम टेक-ऑफ़ वज़न 13,000 किलोग्राम है, और ये 36 सशस्त्र सैनिकों को ले जाने में सक्षम है.

6. इसमें एक ग्लास कॉकपिट है, जो मल्टी-फंक्शन डिस्प्ले, नाइट विजन उपकरण, ऑनबोर्ड वेदर रडार और एक ऑटोपायलट सिस्टम से लैस है.

helicopter
Source: airforce

7. हेलीकॉप्टर Shturm-V मिसाइल, S-8 रॉकेट, एक 23mm मशीन गन, PKT मशीनगन और AKM पनडुब्बी गन से लैस है. ये हथियारों से बख्तरबंद वाहनों, भूमि-आधारित लक्ष्यों और अन्य लक्ष्यों पर सटीक निशाना लगाया जा सकता है.

8. हेलीकॉप्टर के महत्वपूर्ण कंपोनेंट्स बख्तरबंद प्लेटों से सुरक्षित हैं. विस्फोटों से बचाने के लिए ईंधन टैंक फोम पॉलीयुरेथेन से भरे होते हैं. इसमें इंजन-एग्जॉस्ट इंफ्रारेड सप्रेसर्स, एक फ्लेयर्स डिस्पेंसर और एक जैमर भी है.

9. Mi-17V5 हेलीकॉप्टर की अधिकतम गति 250 किमी / घंटा है, और स्टैंडर्ड रेंज 580 किमी है. ये अधिकतम 6,000 मीटर की ऊंचाई पर उड़ सकता है.

10. इस हैलीकॉप्टर में डबल इंजन लगा होता है कि अगर एक इंजन खराब हो जाए तो दूसरे से लैंडिंग कराई जा सके. हेलीकॉप्टर का केबिन काफी बड़ा है जिसका फ्लोर एरिया 12 वर्ग मीटर से ज्यादा है. हेलीकॉप्टर इस तरह से डिज़ाइन किया गया है कि सामान और सैनिको को पीछे के रास्ते तेजी से उतारा जा सके.