Swiggy Delivery Boy Viral Story: आजकल लोग रेस्तरां में जाने के बजाय फ़ूड डिलीवरी एप्स के ज़रिए अपना पसंदीदा खाना ऑनलाइन ऑर्डर करके मंगवाना ज़्यादा प्रेफ़र करते हैं. हालांकि, इस दौरान फ़ूड डिलीवरी कंपनी के डिलीवरी बॉय का काम सबसे ज़्यादा मुश्किल हो जाता है. उनके सामने किसी भी परिस्थिति में अपने कस्टमर को समय पर खाना डिलीवर करने की चुनौती रहती है. फिर चाहे ज़बरदस्त बारिश हो या भयंकर ट्रैफ़िक लगा हो. उनके लिए फ़ाइव स्टार रेटिंग हासिल करना भी सबसे अहम ज़रूरत है. 

abplive

ये भी पढ़ें: Swiggy से लेकर FlyMyBiz तक, भारत की वो 12 कंपनीज़ जो देती हैं Period Leave

इस बीच कर्नाटक के बेंगलुरु में रहने वाले रोहित कुमार सिंह ने सोशल मीडिया पर उनके लिए स्विगी (Swiggy) से खाना लाने वाले डिलीवरी बॉय कृष्णप्पा के साथ हुए वाकये की एक इमोशनल स्टोरी शेयर की है. जिसके बाद से ये कहानी पूरे देश में वायरल हो रही है. 

Swiggy Delivery Boy Viral Story

दरअसल, रोहित कुमार सिंह ने ये कहानी LinkedIn पर शेयर की है. उन्होंने अपने पोस्ट में लिखा है कि उन्होंने Swiggy पर एक फ़ूड ऑर्डर किया था, जो लगातार लेट होता चला जा रहा था. जिसके बाद उन्होंने डिलीवरी बॉय को कॉल करके उसके आने का समय पूछा. उन्होंने कहा कि डिलीवरी बॉय ने उन्हें सुकून भरे लहज़े में आश्वासन दिया कि वह जल्द ही वो ऑर्डर डिलीवर कर देगा. हालांकि, काफ़ी समय के बाद भी जब खाना नहीं आया, तो उन्होंने डिलीवरी बॉय को फिर से कॉल किया. उसने फिर से काफ़ी शांति से 5 मिनट और वेट करने के लिए बोला. (Swiggy Delivery Boy Viral Story)

रोहित पोस्ट में आगे लिखते हैं, “5-10 मिनट के बाद, दरवाजे की घंटी बजी और मैंने जल्दी से दरवाज़ा खोला ताकि मैं डिलीवरी लेट आने की वजह से अपनी निराशा व्यक्त कर सकूं.” लेकिन डिलीवरी बॉय को देखकर उन्हें तुरंत अपनी ग़लती का एहसास हो गया. उनके मुताबिक, डिलीवरी बॉय की आयु क़रीब 40 वर्ष की थी और वो ख़ुद को बैसाखी के सहारे संभालने की कोशिश कर रहा था. रोहित ये देखकर सोचने लगे कि उनके लिए ऑर्डर लाने में कृष्णप्पा को कितना संघर्ष करना पड़ा होगा. उन्होंने उससे तुरंत माफ़ी मांगी और बातचीत करने की कोशिश की.

रोहित ने आगे बताया कि कृष्णप्पा से बातचीत करने पर उन्हें पता चला कि उसने कोरोना महामारी के दौरान एक कैफ़े में अपनी नौकरी खो दी. इसके बाद से ही वो बतौर डिलीवरी बॉय काम कर रहे हैं. कृष्णप्पा के तीन बच्चे हैं, लेकिन अपनी  ख़राब फ़ाइनेंशियल स्थिति की वजह से वो अपने सभी बच्चों को बेहतर एजुकेशन के लिए बेंगलुरु नहीं ला सकते. रोहित डिलीवरी बॉय के बारे में बताते हुए कहते हैं, “सुबह जल्दी उठने से लेकर सभी बाधाओं को पार करते हुए पूरे दिन बिना थके काम करना, उसकी सुपरपॉवर है.” उन्होंने ये भी बताया कि उन्होंने डिलीवरी बॉय से 2-3 मिनट बातचीत की, जिसके बाद उसने कहा, “सर मैं अपनी अगली डिलीवरी के लिए लेट हो रहा हूं.”

linkedin

ये भी पढ़ें: कम से कम टाइम में, दिन-रात वो जो हमारे लिए खाना लेकर आते हैं, हम सम्मान करना क्यों भूल जाते हैं?

इस दिल छू लेने वाली कहानी सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रही है. कमेंट सेक्शन में कई यूजर्स ने डिलीवरी मैन की मदद करने की पेशकश की. 

linkedin
linkedin
linkedin

ये कहानी दिल छू लेगी.