गुरुद्वारा

चंडीगढ़ का वो गुरुद्वारा जहां न रखी है गोलक और न लगता है लंगर, फिर भी कोई भूखा नहीं लौटता

मणिकर्ण साहिब : बर्फ़ीली ठंडी में भी खौलता है इस गुरुद्वारे के कुंड का पानी

बाबा खैराजी की अद्भुत सेवा भावना, 30 लाख से ज़्यादा भूखों को खिला चुके हैं खाना

गुरुद्वारा तख्त श्री हजूर साहिब को 50 सालों में मिले सोने से बनाया जाएगा नांदेड़ में अस्पताल