दहेज जैसी कुप्रथा के ख़िलाफ समाज और कानून दोनों ही काम कर रहे हैं. लेकिन हक़ीक़त में ये कुप्रथा धड़ल्ले से जारी है. आज भी लड़के वाले बड़े गर्व से ख़ुद की बोली लगवाते हैं.   

Source: newsbust

हालांकि, राजस्थान के बूंदी जिले के रिटायर्ड प्रिंसिपल बृजमोहन मीणा ने अपने बेटे की शादी में दहेज के रुपये लौटा कर सबके आगे एक नज़ीर पेश की है. उन्होंने दहेज में मिले 11 लाख रुपये लौटा दिए और कहा कि उन्हें सिर्फ़ बेटी चाहिए.   

रिपोर्ट के मुताबिक, रिटायर्ड प्रिंसिपल बृजमोहन मीणा की शादी टोंक जिले में हो रही है. सगाई के दौरान लड़की के पिता नोटों की गड्डियों से भरी एक थाली लेकर लड़के के पिता सामने आ गए. इस थाली में 11 लाख 101 रुपये थे. हालांकि, बृजमोहन मीणा ने दहेज के ये रुपये लेने से इनकार कर दिया.   

Source: newsbust

उनके ऐसा करते ही वहां सामाजिक प्रथा की दुहाई दी जाने लगी. इस पर बृजमोहन मीणा ने शगुन के तौर पर 101 रुपये लेकर बाकी पैसा लौटा दिया. उन्होंने कहा कि उन्हें सिर्फ बेटी चाहिए.  

ससुर के इस कदम की दुल्हन ने भी की सराहना  

Source: newsbust

दुल्हन आरती मीणा साइंस ग्रेजुएट है और बीएड कर रही है. लड़के वालों के इस फ़ैसले पर उसने अपनी ख़ुशी ज़ाहिर करते हुए कहा कि उन्होंने दहेज लौटा कर समाज के आगे एक मिसाल पेश की है. इससे बेटियों का सम्मान बढ़ेगा. वहीं, लड़की के घर वालों का कहना है कि ये उनके लिए प्रेरणा की बात है. टोंक, बूंदी, सवाई माधोपुर जिले में इस तरह का ये पहला मामला है. इससे समाज में एक सही संदेश जाएगा.