आप जब कोई अच्छा काम करके घर लौटते हैं तो मोहल्ले वाले भी कहते हैं 'तुमने गर्व से हमारा सिर ऊंचा कर दिया है', लेकिन गुजरात के एक शख़्स के लिए अपना यही सिर मुसीबत का कारण बन रहा है. गुजरात के छोटा उदयपुर के रहने वाले ज़ाकिर मेमन के साथ एक अजीब समस्या है. समस्या भी ऐसी कि उसका हल न तो ख़ुद ज़ाकिर के पास है और न ही गुजरात ट्रैफ़िक पुलिस के पास. अब आप सोच रहे होंगे इसमें पुलिस कहां से आ गयी? 

ये भी पढ़ें- हेलमेट नहीं पहनना शख़्स को पड़ा भारी, पुलिस ने थमाया 2 मीटर लंबा चालान

Zakir Memon
Source: patrika

दरअसल, बात ये है कि ज़ाकिर जब भी अपनी मोटरसाइकिल पर बैठकर घर से बाहर निकलते हैं, तो ट्रैफ़िक पुलिस उनका चालान काट देती है. इसके पीछे का मुख्य कारण है उसका सिर. ज़ाकिर के सिर का साइज़ इतना बड़ा है कि वो हेलमेट भी नहीं लगा सकता है. देश भर में जब से नए ट्रैफ़िक नियम लागू हुए हैं ज़ाकिर अपनी इस समस्या से बेहद परेशान हैं.

Zakir Memon With Helmet
Source: jansatta

पेशे से फल विक्रेता ज़ाकिर मेमन को जब भी ट्रैफिक पुलिस रोकती है वो गाड़ी से संबंधित कागजात वगैरह सारी चीज़ें दिखा देते हैं. लेकिन सिर पर हेलमेट नहीं होने की वजह से पुलिस हर बार उनका चालान काट देती है. ज़ाकिर के सिर का साइज़ बड़ा होने के चलते कोई भी हेलमेट उनके सर में फिट ही नहीं बैठता. अगर वो हेलमेट पहनकर गाड़ी चलाने की कोशिश करें भी तो हेलमेट उनके बालों में फंस जाता है.

Zakir Memon
Source: aajtak

ज़ाकिर मेमन के सिर का साइज़ इतना बड़ा है कि गुजरात तो क्या पूरे भारत में उनके साइज़ का हेलमेट ही उपलब्ध नहीं है. बड़े से बड़े साइज़ का हेलमेट भी उनके सिर पर ताज की तरह अटक जाता है. ज़ाकिर के पास इतना पैसा नहीं है कि वो कस्टमाइज़ हेलमेट पहन सके. अगर वो कस्टमाइज़ हेलमेट इस्तेमाल कर भी लेते हैं तो उन्हें भारतीय ट्रैफ़िक गाइडलाइन्स का पालन करना होगा. इसके लिए उन्हें अलग से पेपर वर्क की ज़रूरत पड़ेगी. ये काम नामुमकिन सा लगता है.

Zakir Memon With Helmet
Source: youtube

साल 2019 में जब गुजरात ट्रैफ़िक पुलिस ने ज़ाकिर को बिना हेलमेट के गाडी चलाते देखा तो उन्हें रोक लिया. इस दौरान जब पुलिस ने हेलमेट नहीं पहनने पर ज़ाकिर का चालान करने की बात कही तो उसकी दलील सुनकर पुलिस वाले हैरत में पड़ गए थे. ज़ाकिर का कहना था कि किसी भी कंपनी का हेलमेट उनके सिर पर फिट ही नहीं होता है.

Zakir Memon with Gujarat Traffic Police
Source: patrika

इस दौरान जब ट्रैफ़िक पुलिस को ज़ाकिर की बातों पर भरोसा नहीं हुआ तो वो उसे ख़ुद एक हेलमेट की दुकान पर लेकर पहुंच गए. बात 16 आने सच निकली. ज़ाकिर ने पुलिस के सामने एक के बाद एक पचासों हेलमेट पहने, लेकिन कोई भी उनके सिर पर फ़िट नहीं हुआ. इसके बाद पुलिस ने ज़ाकिर को चेतावनी देकर बिना चालान काटे छोड़ दिया.

बता दें कि देश में लागू नए 'मोटर व्हीकल एक्ट' के मुताबिक बिना हेलमेट बाइक चलाने के मामले में 1,000 रुपये जुर्माने का प्रावधान है. लेकिन ज़ाकिर मेमन पुलिस के सामने आराम से बिना हेलमेट के घूमता रहता है. पुलिस चाह कर भी इसका चालान नहीं काट पा रही है.

ये भी पढ़ें- दर्द-ए-चालान: 1 महीने से गाड़ी घर पर खड़ी थी, फिर भी ट्रैफ़िक पुलिस ने काट दिए 15 चालान