उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को नागरिकता संशोधन क़ानून और एनआरसी पर हो रहे विरोध की आलोचना की.


News18 की रिपोर्ट के मुताबिक़ योगी ने कानपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए योगी ने कहा

विरोध के नाम पर अगर किसी ने 'आज़ादी' के नारे लगाए तो वो देशद्रोह होगा और सरकार कड़ी कार्रवाई करेगी. ये हम हरगिज़ नहीं मानेंगे. लोगों को भारत की मिट्टी पर रहकर ही भारत के ख़िलाफ़ षड्यंत्र करने नहीं दिया जायेगा.
Source: NDTV

India Today की रिपोर्ट के अनुसार योगी ने कहा कि पुरुष अपने-अपने घरों में आराम से बैठे हैं और उन्होंने महिलाओं और बच्चों को सड़कों पर प्रदर्शन करने भेज दिया है.

उन लोगों में विरोध में भाग लेने की हिम्मत नहीं है. उन्हें पता है कि अगर वे तोड़-फोड़ में शामिल होते हैं तो उनकी प्रोपर्टी ज़ब्त कर ली जायेगी. उन्होंने औरतों को रोड पर बैठाना शुरू कर दिया है. बच्चों को बैठाना शुरू कर दिया है. ये बहुत बड़ा अपराध है कि पुरुष रज़ाई में सो रहे हैं और महिलाएं सड़कों पर बैठी हैं. ये बहुत शर्मनाक है.

दिल्ली के शाहीन बाग़, लखनऊ के घंटाघर समेत देश के कई हिस्सों में महिलाएं CAA, NRC के खिलाफ़ बैठकर शांतिपूर्ण विरोध कर रही हैं.

आज़ादी वाले नारे देशभर में विरोध का पैरामीटर बन गये हैं. प्रदर्शनकारी 'सीएए, एनआरसी से आज़ादी' ये नारे लगा रहे हैं. ग़ौरतलब है कि आज़ादी वाले नारों को ऐंटी-नेशनल घोषित कर दिया गया है.