ये हम सभी जानते हैं कि विदेश में एंट्री लेने के लिए वीज़ा (Visa) का सबसे अहम रोल होता है. अगर आप किसी विशेष देश की यात्रा करना चाहते हैं, लेकिन उसका वीज़ा आपको किसी कारणवश नहीं मिल पाया है. तो आप चाहे लाख़ कोशिशें कर लें, उस देश में आपकी एंट्री होना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है. बीते कुछ सालों में कई देशों ने लोगों के लिए गोल्डन वीज़ा (Golden Visa) जारी करने का एलान किया है, जिसमें यूएई शामिल है. हालिया दिनों में अब बहरीन का नाम भी इसमें जुड़ गया है. गोल्डन वीज़ा (Golden Visa) को नॉर्मल समझने की भूल गलती से भी मत करिएगा. ये अपने नाम की तरह इसके धारकों को भी गोल्डन बेनेफिट्स देता है, जिसके बारे में आम वीज़ा धारक शायद सिर्फ़ सपने में ही सोच पाएं.

तो चलिए आपको बता देते हैं गोल्डन वीज़ा (Golden Visa) के फ़ायदे, नुकसान, ये कैसे मिलता है और इससे जुड़ी सभी अहम जानकारी.

golden visa
Source: schengenvisainfo

गोल्डन वीज़ा (Golden Visa) के फ़ायदे

आमतौर पर विदेशों में काम करने वाले दूसरे देश के लोगों के पास सामान्य वीज़ा होते हैं. ये वीज़ा कुछ सालों के लिए ही वैध होते हैं. इसके बाद उनको फिर से रिन्यू कराना पड़ता है. लेकिन गोल्डन वीज़ा (Golden Visa) मुख्य तौर से निवेशक, उद्यमी, रिसर्चर्स, मेडिकल प्रोफ़ेशनल्स और अच्छे स्टूडेंट्स को लॉन्ग टर्म के लिए रेज़िडेंसी ऑफ़र करता है. इसके साथ ही लोगों को वहां काम करने का अधिकार, असीमित प्रवेश और जाने का भी अधिकार मिलता है. आमतौर पर इसका मकसद टैलेंटेड लोगों को अपने देश में आकर्षित करना होता है, जो उनके देश को आगे बढ़ाने में योगदान दे सकते हैं. इसके साथ ही ये आपको भविष्य की सिक्योरिटी भी देता है.

ये भी पढ़ें : ये हैं वो 11 देश जहां बिना वीज़ा के जा सकते हैं टूरिस्ट्स, मिलती ई-वीज़ा की सुविधा

गोल्डन वीज़ा पाने की क्या है योग्यता?

वो लोग जिनके पास निवेश कोष या कंपनी के रूप में 10 मिलियन AED (20 करोड़ रुपये) तक सार्वजनिक निवेश है, वो USA में 10 साल के गोल्डन वीज़ा (Golden Visa) के लिए अप्लाई कर सकते हैं. हालांकि, कुल निवेश का कम से कम 60% अचल संपत्ति के रूप में नहीं होना चाहिए और निवेश की गई राशि को उधार नहीं दिया जाना चाहिए. संपत्ति के मामले में, निवेशकों की पूरी ओनरशिप होनी चाहिए. हाई स्कूल के छात्र जो देश में शीर्ष स्थान पर हैं (न्यूनतम ग्रेड 95%) और कुछ विश्वविद्यालयों के छात्र जिनका GPA 3.75 या उच्चतर स्नातक स्तर पर है, वो भी गोल्डन वीज़ा के लिए अप्लाई कर सकते हैं. वहीं, बहरीन में गोल्डन वीज़ा पाने के लिए आपको पहले वहां कम से कम 5 साल तक रहना होगा. साथ ही उस व्यक्ति की हर महीने की सैलरी 2000 BHD (3,96,230 रुपये) होनी चाहिए. 

what is golden visa
Source: acquest-advisors

कैसे कर सकते हैं अप्लाई?

1. यूएई का गोल्डन वीज़ा पाने के लिए सबसे पहले आपको https://icp.gov.ae/en/ पर जाना होगा. 

2. नॉमिनेशन के लिए अप्लाई करें.

3. USA प्रशासन 30 दिनों में आपकी एप्लीकेशन रिव्यू करेगा.

4. 30 दिनों के अंदर आपको अपने आवेदन के परिणाम के साथ एक ईमेल प्राप्त होगा.

5. अगर नॉमिनेशन अप्रूव हो जाता है, तो आपको ईमेल पर एक लिंक मिलेगी, जिसमें आपको अपने सारे डाक्यूमेंट्स अपलोड करने होंगे. 

5. पहचान और नागरिकता के लिए संघीय प्राधिकरण आवेदन को वेरिफ़ाई करेगा.

6. लीजिए हो गया आपका काम, प्राधिकरण आपको इसके बाद गोल्डन वीज़ा जारी कर देगा. 

how to get golden visa
Source: aaconsultancy

ये भी पढ़ें: विदेश की ट्रिप प्लान करने से पहले ये 8 नए वीज़ा नियम जान लो, विदेश का सफ़र और सुहाना हो जाएगा

ये तो बड़े काम की चीज़ है.