सेना के जवानों की ज़िंदगी जितनी मुश्किल होती है, उतनी ही मुश्किल ज़िंदगी उनके परिवारों की भी होती है.

इसी साल फ़रवरी माह में इंडियन एयर फ़ोर्स ने 'मिराज 2000' फ़ाइटर प्लेन क्रैश में अपने एक होनहार पायलट समीर अब्रोल को खो दिया था. अब पांच महीने बाद उसी परिवार से एक और जांबाज़ इंडियन एयर फ़ोर्स को जॉइन करने जा रहा है.

Source: hindustantimes

ये कोई और नहीं बल्कि शहीद पायलट समीर अब्रोल की पत्नी गरिमा अब्रोल हैं. गरिमा ने अपने शहीद पति के सपनों को पूरा करने के लिए भारतीय वायु सेना में शामिल होने का फ़ैसला किया है.

Source: ssbcrack

गरिमा के सेना में शामिल होने की जानकारी राइटर स्‍वप्‍न‍िल पांडे ने दी:

स्‍वप्‍न‍िल अपने फ़ेसबुक पेज पर बेहद भावुक पोस्ट लिखते हुए कहती हैं 'स्‍क्‍वाड्रन लीडर समीर अब्रोल याद हैं न? जो इसी साल फ़रवरी महीने में 'मिराज 2000' क्रैश में शहीद हो गए थे?

आर्म्‍ड फ़ोर्स में काम करने वाले जवानों की पत्‍न‍ियां सच में किसी खास धातु की बनी होती हैं. इन बहादुर जवानों की जीवन संगिनी बनने वाली महिलाएं स्पेशल होती हैं, क्‍योंकि उन्‍हें पता होता है कि उनके पति के लिए सबसे पहले उनकी वर्दी है.

इस दौरान स्‍वप्‍न‍िल 'गरिमा अब्रोल के उस इंस्‍टाग्राम पोस्‍ट का ज़िक्र भी करती हैं जिसमें वो लिखती हैं-

Source: iforher
‘मेरे आंसू अभी भी सूखे नहीं हैं और मुझे अपने पति को एक कप चाय के साथ सिर ऊंचा कर राष्ट्र की सेवा के लिए भेजना बहुत पसंद था. जब वो छोड़ कर चले जाते हैं तो परिवार के अलावा कोई नहीं रोता. मीडिया इसे एक दिन के लिए कवर करता है, लेकिन वो ये भूल जाते हैं कि एक फ़ाइटर पायलट बनने में कितने दशक लग जाते हैं'.
Source: latestly

स्‍वप्‍न‍िल पांडे ने जब गरिमा से पूछा कि इतना सब कुछ होने के बाद भी आख़िर वायुसेना क्‍यों? तो इस पर गरिमा ने जवाब दिया कि ‘मैं असल में ये देखना चाहती हूं कि समीर के जूतों और वर्दी में जीवन कैसा दिखता है. दरअसल उनकी तरह वर्दी पहनना मुझे जीवन जीने का मकसद देता है'.

Source: maharashtratimes

स्‍वप्‍न‍िल लिखती हैं, ‘मैं वास्तव में चाहती हूं कि लोग नकली हस्तियों के बजाय गरिमा जैसी महिलाओं से प्रेरणा लें. अपने बच्चों को खासकर लड़कियों को ऐसी महिलाओं के बारे में बताएं, जो कई बाधाओं को पार कर जीवन में ऊपर उठने का उदाहरण पेश करती हैं'.

Source: dnaindia

स्‍वप्‍न‍िल पांडे अंत में लिखती हैं 'गरिमा अब्रोल का साहस देखने लायक है. वो अगले साल जनवरी में 'भारतीय वायु सेना' में शामिल होंगी. उनकी तैनाती वाराणसी में होगी.

गरिमा अब्रोल को उनकी नई ज़िंदगी के लिए हमारी ओर से शुभकामनायें