वो दिन कब आएगा जब घर हो या स्कूल लड़कियां हर जगह आज़ादी से घूम सकेंगी. बातें कितनी भी चांद पर पहुंचने की कर लो, कितना भी लड़की और लड़के को बराबरी का दर्ज़ा दे दो. मगर जब बात हक़ीक़त की आती है तो उसका चेहरा बहुत घिनौना है. जो ये दिखाता है कि लड़कियां कहीं भी सुरक्षित नहीं हैं. वो स्कूल हो, घर हो या फिर मंदिर ही क्यों न हो! ऐसा ही एक मामला बीते शनिवार को बिहार के सुपौल के कस्तूरबा आवासीय बालिका विद्यालय में हुआ.

Source: livecities

इस घटना में कुछ मनचलों ने छात्राओं के साथ ग़लत व्यवहार करने से रोके जाने पर उनके साथ मारपीट की. जिनमें 34 छात्राएं घायल हो गई थीं. सभी घायल छात्राओं को इलाज के लिए अनुमंडलीय अस्पताल भेजा गया. इन 34 छात्राओं में से 20 को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई, और बाकि 10 का इलाज अभी चल रहा है.

Source: livehindustan

आपको बता दें कि पूरे मामले की FIR दर्ज कर जांच में जुटी पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ़्तार कर लिया है. इनमें ज़्यादा नाबालिग हैं. इनकी उम्र का वेरीफ़िकेशन किया जा रहा है.

Source: prabhasakshi

इस घटना में विपक्षी पार्टी आरजेडी के नेता और पूर्व सीएम तेजस्वी यादव ने पुलिस प्रशासन के साथ-साथ नीतिश कुमार की सरकार के लचीलेपन पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया कि ‘सरकार नरम है, अपराध चरम पर है.’

ग़ौरतलब है कि ये घटना बीते शनिवार शाम की है. जब छात्राएं विद्यालय परिसर में खेल रही थीं. उसी दौरान कुछ मनचले उन पर अभद्र टिप्पणी करने लगे और फ़ब्तियां कसने लगे. जिसकी शिक़ायत छात्राओं ने अध्यापक से की. इसके बाद अध्यापक और अन्य लोग मनचलों को समझाने गए, लेकिन वे उनसे ही उलझ गए. थोड़ी देर बाद आरोपी लड़के अपने अभिभावकों और अन्य लोगों के साथ वापस आए और शिक्षकों और छात्राओं से मारपीट शुरू कर दी. 

Source: navodayatimes

मामले की FIR वॉर्डन रीमा राज के बयान पर दर्ज हुई थी, जिसमें 9 नामजद और लगभग एक दर्जन अज्ञात के ख़िलाफ़ केस दर्ज किया गया था.

इस पूरी घटना को जानने के बाद ये कहना ग़लत नहीं होगा कि आजकल बच्चे ही नहीं, बल्क़ि कुछ मां-बाप भी ऐसे हैं, जो अपने बच्चों का ग़लत काम में साथ देते हैं. ऐसा ही रहा तो पता नहीं ये सब कब रुकेगा?