बुर्ज ख़लीफ़ा और मुंबई के मरीन ड्राइव से भी तीन गुना बड़े और हरियाली युक्त रास्ते के निर्माण की योजना बन रही है. इसे देश की आर्थिक राजधानी, मुंबई के पश्चिमी भाग में बनाया जाएगा.

इस विशाल योजना का नाम है जहाजरानी. ये सड़क परिवहन और राजमार्ग केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का महत्वकांक्षी प्रोजेक्ट है. नितिन गडकरी का मानना है कि Mumbai Port Trust सबसे बड़ा भू-स्वामी है. नितिन गडकरी इसके ज़रिए शहर में बड़ा बदलाव लाना चाहते हैं.

गडकरी ने कहा कि 'मुंबई में Taj Hotel, Ballard Estate, Reliance Building और Mumbai Port Trust के पास सबसे बढ़िया ज़मीन है. हमारे पास कई अच्छी योजनाएं तैयार हैं, बस केंद्र की हामी की देरी है'.

'हम अपनी ज़मीन को बिल्डर्स और इन्वेस्टर्स को नहीं देंगे. इसका विकास हम खुद करेंगे, स्मार्ट रोड और हरियाली युक्त सड़कें बनाएंगे, जो मरीन ड्राइव से भी तीन गुना बड़ी होंगी. बुर्ज ख़लीफ़ा से भी बड़ी ऐतिहासिक इमारत बनाने की योजना है.', गडकरी ने कहा.

उन्होंने कहा कि 'हम कोलकाता के बंदरगाह के विकास की योजना भी बना रहे हैं और कंडला बंदरगाह के पास स्मार्ट सिटी बनाएंगे'.

इस योजना का मुख्य अंश Mazagoan Docks से Wadala तक 7 किलोमीटर लंबी मरीन ड्राइव बनाना है, जो वर्तमान मरीन ड्राइव से काफ़ी बड़ी होगी.

केंद्र ने आर. जाधव की अध्यक्षता में एक कमेटी की स्थापना की थी, जिसका काम था इस योजना का रोडमैप तैयार करना. कमेटी अपनी रिपोर्ट जहाजरानी मंत्रालय को सौंप चुकी है.

भारत के प्रमुख बंदरगाहों के पास 2.64 लाख एकड़ की ज़मीन है. इसका भी उचित इस्तेमाल करने की योजना बनायी जा रही है. CAG की रिपोर्ट के अनुसार, इन बंदरगाहों को जितनी भी ज़मीन आवंटित की गई है, वो उसके आधे हिस्से का भी उपयोग नहीं कर रहे हैं.

Source: mid-day

Image Source: Indian Express