बीती रात दिल्ली के बवाना में एक पटाखा फैक्ट्री में आग लग गई, जिसमें 17 लोगों की मौत हो गई. इस घटना के सामने आने के बाद से ही इस मुद्दे पर राजनीति भी शुरू हो गई है. घटना की जानकारी मिलने के बाद उत्तरी दिल्ली की मेयर, प्रीती अग्रवाल ने घटना स्थल का दौरा किया. यहां मीडिया से मुख़ातिब होने से पहले उन्होंने अपने सहयोगी साथी से कहा कि 'इस कंपनी को लाइसेंस हमारी तरफ़ से ही जारी किया किया गया था, इसलिए हमें इस मुद्दे पर कुछ नहीं कहना है.'

प्रीति अग्रवाल का वीडियो सामने आने के बाद से ही ये सोशल मीडिया में जम कर वायरल होने लगा है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ख़ुद प्रीति के इस वीडियो अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर भी किया है.

हालांकि उत्तरी दिल्ली की मेयर प्रीति अग्रवाल ने कहा है कि 'मुख्यमंत्री फ़ेक वीडियो के ज़रिये पब्लिक को कंफ़्यूज़ करने का प्रयास कर रहे हैं. मैं चाहती हूं कि मेरी छवि को बदनाम करने और दिल्ली की जनता को मूर्ख़ बनाने के लिए उनसे माफ़ी मांगे.'

BJP नेताओं का कहना है कि जिस जगह ये फ़ैक्टरी है वो इंडस्ट्रियल क्षेत्र DSIDC (Delhi State Industrial and Infrastructure Development Corporation) के अंतर्गत आती है. इस ज़मीन का निर्धारण दिल्ली सरकार द्वारा ही किया जाता है.

Source: indiatoday