ए.आर.रहमान के गानों से जितना मज़ा आता है, उतना ही सुकून भी मिलता है. रहमान का संगीत हमारे खुशी, ग़म, अकेलेपन का साथी है. यूं कहना ग़लत नहीं होगा कि रहमान हम सब की ज़िन्दगियों में एक ख़ूबसूरत तोहफ़ा हैं. चाहे वो देशभक्ति की भावना हो, या मस्तमौला होकर डांस करना, रहमान के गाने हमें कभी निराश नहीं करते.

रहमान ने हाल ही में Wembley Music School लंदन में प्रस्तुति दी. लेकिन ऐसा पहली बार हुआ कि ए.आर.रहमान के शो को देखने के बाद लोग अपने पैसे वापस मांगने लगे.

Reason, ए.आर.रहमान ने हिन्दी गानों के साथ ही तमिल गाने गाए. इसी बात से कुछ लोग इतने ख़फ़ा हो गए कि लोग टिकट का Refund मांगने लगे.

Source: Buzz Feed

लोग इतना ज़्यादा निराश हो जाएंगे ये तो ख़ुद रहमान ने भी नहीं सोचा होगा. एक जनाब ने तो ये तक कह दिया कि बॉलीवुड से नाम कमाने वाले को तो तमिल बोलना भी नहीं चाहिए.

Source: Buzz Feed

लोगों ने ये आरोप लगाया कि कॉन्सर्ट के Ad में कहीं से भी ये नहीं लिखा था कि वो एक तमिल कॉनसर्ट होगा.

Source: Buzz Feed

ट्विटर यूज़र @MusicAloud ने कॉन्सर्ट के Setlist की तस्वीर भी जारी की, रहमान के तमिल सॉन्ग्स गाने से ख़फ़ा लोगों को ये लिस्ट ज़रूर देखनी चाहिए-

Source: Buzz Feed

लिस्ट के हिसाब से रहमान ने 16 हिन्दी गाने गाये और 12 तमिल गाने. ये कहीं से भी हिन्दी तमिल कॉनसर्ट नहीं कहा जा सकता.

रहमान के बारे में बुरा-भला कहने वाले लोग शायद ये भूल गए हैं कि रहमान एक तमिलभाषी हैं और वो तमिलनाडु से ही हैं. यही नहीं, उनका Nickname ही है 'Mozart of Madras'. अब आप पूछेंगे Mozart कौन, भईया गूगलिया लो.

Source: India Pages

रोज़ा के गाने, जो बड़े शौक से सुनते हो उसे भी पहले तमिल में रिलीज़ किया गया था, इसी के साथ कई बेहतरीन गाने जैसे कि 'हम्मा हम्मा' 'उर्वशी उर्वशी' 'मुक्काला मुक़ाबला' भी पहले तमिल में ही रिलीज़ किये गये थे.

सबसे ज़रूरी बात, जो ये पैसे वापसी की मांग करने वाले भूल गए, वो ये कि इस Tour का नाम 'नेत्रू इन्द्रु नालइ' था जिसका मतलब 'कल, आज और कल' है.

अब दक्षिण भारत के लोग चुटकी लेने से पीछे नहीं हटे और उन्होंने भी ट्विटर पर रहमान के कॉनसर्ट से नाख़ुश लोगों की ऐसी-तैसी करने में कोई कसर नहीं छोड़ी.

Source: Buzz Feed

भाषा को लेकर हिन्दी बोलने वालों और दक्षिण भारत के लोगों में भिड़ंत होती रही है. बेंगलुरू मेट्रो द्वारा जब ज़बरदस्ती हिन्दी को दक्षिण भारत के लोगों पर थोपे जाने की कोशिश की गई, तो वहां के लोगों ने इसका कड़ा विरोध किया. अब इस युद्ध का दायरा और बड़ा होता दिख रहा है. ज़ाहिर सी बात है किसी पर कुछ थोपा जाए तो विरोध तो होगा ही.

Source: Buzzfeed