21 मई,1994 को कुछ ऐसा हुआ था, जो भारत के लिए बिल्कुल नया था. पहली बार किसी भारतीय के सिर मिस युनिवर्स का ताज आया था. 1994 में ही मिस इंडिया बनीं सुष्मता सेन ने उसी साल मिस युनिवर्स का ख़िताब भी अपने नाम किया था. तब उनकी उम्र मात्र 18 साल थी. इस बात को अाज 24 साल हो गए.

सुष्मिता सेन का जन्म हैदराबाद के एक बंगाली परिवार में हुआ था, उनके पिता इंडियन एयर फ़ोर्स में थे और उनकी मां एक ज्वेलरी डिज़ाइनर. उनकी परवरिश दो भाई-बहनों के साथ हुई.

मिस युनिवर्स बनने के बाद सुष्मिता सेन ने फ़िल्मों की ओर रुख किया. उनकी फ़िल्मी करियर को बहुत सफ़ल नहीं कहा जा सकता, लेकिन उन्होंने हमेशा अपनी सक्रियता बनाई रखी. उन्होंन\हिन्दी, तमिल, बांग्ला और अंग्रेज़ी भाषा की फ़िल्मों में काम किया है. 1999 में आई 'बीवी नंबर 1' के लिए उन्हें सहायक अभिनेत्री का फ़िल्म फ़ेयर अवॉर्ड मिला था. 'मैंने प्यार क्यों किया' और 'मैं हूं ना' उनके करियर की सबसे बड़ी हिट फ़िल्मे हैं. इसके अलावा वो सामाजिक कार्यों से भी हमेशा जुड़ी रहीं, इसके लिए उन्हें साल 2013 में मदर टरेसा सम्मान भी दिया गया.

आज के दिन को याद करते हुए सुष्मिता सेन ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट डाला है. उनका कहना है, 'मैं 18 साल की थी, तब भारत ने पहली बार 21 मई, 1994 को मिस युनिवर्स का ख़िताब जीता था. आज में 42 साल की हो चुकी हूं, मैं आज भी 'मिस' हूं और मेरी भीतर 'युनिवर्स' बसता है. 'सालों' के सिवाए कुछ भी नहीं बदला.'

उन्होंने अपने दोस्तों और फ़ैन्स को इस दिन को याद रखने के लिए और उन्हें बधाई देने के लिए धन्यवाद भी दिया. आप भी कमेंट बॉक्स में उन्हें बधाई दे सकते हैं.