तुम जो मिल गए हो, तो ये लगता है कि जहां मिल गया...

ऐसे ही न जाने कितने बेहतरीन और सुरीले गाने गाने वाले मोहम्मद रफ़ी हिंदी सिनेमा के ऐसे महान और दिग्गज पार्श्वगायक गायक थे, जिन्होंने अपनी सुरीली आवाज़ से सबका मन मोह लिया. आज भी उनके गाये हुए गीत लोगों के दिलों-दिमाग़ पर छाये हुए हैं. आज भी लोग उनके गानों को चाव से सुनते हैं. मोहम्मद रफ़ी को 6 बार सर्वश्रेष्ठ गायक का फ़िल्मफ़ेयर अवॉर्ड मिला था. भले ही वो आज इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन उनकी आवाज़ आज भी करोड़ों चेहरों पर मुस्कान ले आती है.

Source: indiatvnews

वैसे तो उनकी ज़िन्दगी और उनसे जुड़े कई किस्से और कहानियां आपने सुने होंगे, लेकिन एक किस्सा ऐसा भी है, जिसके बारे में शायद कम लोग ही जानते होंगे. ये बात उस वक़्त की है जब मोहम्मद रफ़ी ने एक इवेंट में दोस्ती फ़िल्म का 'चाहूंगा मैं तुझे साँझ सवेरे...' गाना गाया था. उस समारोह में पंडित जवाहर लाल नेहरू भी बतौर दर्शक मौजूद थे.

तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू उस गाने को लाइव सुनकर अपनी भावनाओं को रोक नहीं पाए और उनकी आंखों से आंसू निकल आये थे.

सच में ये गाना सुनकर ऐसा लगता है मानों रफ़ी साहब ने अपना दिल निकाल कर रख दिया हो. गाने के हर बोल को उन्होंने जिस इमोशन के साथ गया है, वो आज भी किसी की आंखों में आंसू ले आएगा.

मोहम्मद रफ़ी और पंडित नेहरू का एक किस्सा और है, कि 1948 में महात्मा गांधी की हत्या के बाद हुस्नलाल-भगतराम, राजेंद्र कृष्ण और मोहम्मद रफ़ी ने एक रात में एक गाना 'सुनो सुनो ऐ दुनिया वालों बापू की ये अमर कहानी...' तैयार किया था. एक बार पंडित नेहरू ने रफ़ी साब को अपने घर बुलाया था, जहां एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था. तब नेहरू जी ने रफ़ी साहब से वही गाना सुनाने की फ़रमाइश की थी. इस गाने के लिए चाचा नेहरू ने मोहम्मद रफ़ी को रजत पडत से सम्मानित भी किया था.

Source: ytimg

इस गाने के अलावा लिखे जो ख़त तुझे, वो तेरी याद में..., दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर..., पर्दा है पर्दा..., आजा आजा मैं हूं प्यार तेरा, अल्लाह-अल्लाह इंकार तेरा...', 'मन तड़पत हरी दर्शन को आज...' ऐसे कई गाने हैं, जिको सुनकर आप कभी बोर नहीं होंगे. इस रफ़ी साहब की आवाज़ में वो जादू था कि आज भी उनके गाये गीत वही ताज़गी और सुकून देते हैं.

रफ़ी साहब की ख़ासियत थी कि चाहे कव्वाली हो, रोमांटिक गाना हो, दर्द भरा गीत हो या फिर क्लासिकल सॉन्ग हो, हर तरह की गाने में वो जान डाल देते थे. उनका गाया एक-एक गाना बॉलीवुड का ऐसा मास्टरपीस है, जो उनके फ़ैन्स के दिलों में रम जाता है. शायद यही वजह है कि आज के युवा सिंगर्स भी उनके गानों को गाते हैं.