दशहरे के दिन, अमृतसर की दिल दहला देने वाली घटना को अभी ढंग से 1 महीना भी नहीं हुआ है और पंजाब के लोगों ने दोबारा अपनी जान हथेली पर रख दी है.

छठ महापर्व के आख़री दिन बठिंडा से ये तस्वीरें आई हैं-

Source: ABP

सारा देश अमृतसर की घटना को ठीक से भूल भी नहीं पाया था कि लापरवाही का एक और उदाहरण पेश हो गया.

इस बार भी दर्शक छठ देखने के लिए रेलवे ट्रैक पर खड़े दिखाई दिए.

Source: ABP

ABP के अनुसार, पुलिस ने लोगों को ट्रैक से हटाने की कोशिश भी की लेकिन लोगों ने अनसुना कर दिया.

Source: ABP
Source: ABP
Source: ABP

अमृतसर हादसे के दौरान पटाखों के शोर तले ट्रेन के हॉर्न की आवाज़ दब गई थी और 60 से ज़्यादा लोगों ने अपनी जान गंवाई थी. लेकिन छठ महापर्व में शोर की कोई बात नहीं थी और अगर ट्रेन आती ,तो लोगों को हॉर्न की आवाज़ सुनाई देती. क्या ये कोई वजह हुई इस तरह लापरवाही करने की?