स्मार्टफोन के बढ़ते प्रयोग ने हमारी ज़िन्दगी से अनेक चीज़ों को दूर कर दिया है. हर इंसान, चाहे वो मर्द हो या औरत, अपने फोन में इस कदर खोया रहता है कि उसे इस बात का इल्म ही नहीं रहता कि उसके आसपास अपने लोग भी है. वो लोग जिनसे उसका जीवन जुड़ा है. मोबाइल के बढ़ते प्रयोग ने इंसानी रिश्तों में काफ़ी दूरियां पैदा कर दी हैं. लोग साथ में रहते हुए भी आज कल साथ में नहीं रहते हैं. जिसे देखो वो अपने फोन में खोया नज़र आता है. वो ये भूल जाता है कि फोन में खोने के चक्कर में वो अपनी ज़िन्दगी की किन-किन खुशियों को खोता जा रहा है.

ऐसे माहौल में एक फोटोग्राफर ने आज की इस लाइफस्टाइल पर एक करारा व्यंग्य किया है. उन्होंने रोजमर्रा की ज़िन्दगी में इंसान द्वारा बिताये जाने वाले पलों को अपने कैमरे में कैद किया. उसके बाद उन्होंने जहां कहीं भी बैरी स्मार्टफोन नज़र आया, उसे हटा दिया. फोटोग्राफर Eric Pickersgill की इस हरकत के बाद इंसान की संवेदनहीन छवियां, एक मजाकिया अंदाज में सामने आई हैं.

1. पास रह कर भी दूर होने का बहाना मिल गया है.

2. परिवार एक फ्रेम में तो फिट आ रहा है लेकिन एक इमोशन में नहीं.

3. जिन्हें ख़ुद को किसी की गोद में होना चाहिए, उनकी ख़ुद की गोद में कोई और है.

4. नई-नई शादी की खुशियों को काफूर करता आज का स्मार्टफोन.

5. दोस्त आज भी साथ नज़र आते हैं, बस दोस्ती कहीं खो गई है.

6. एक उम्र हो चली है, गुफ्तगू किए.

7. डिजिटल होती दुनिया ने आपसी प्यार को भी इस धुंए की तरह हवा में उड़ा दिया है.

8. इस Techie को दुनिया में सच में एक दिन प्यार के लिए हाथ फ़ैलाने ही पड़ेंगे.

9. जो बातों के लिए बदनाम थे, आज वहां सन्नाटा पसरा नज़र आता है.

10. इससे बड़ी विडम्बना और क्या होगी, हमसफ़र साथ है, सफ़र कहीं और है.

11. इन्हें देख कर सच में लगता है, प्यार शरीर का नहीं, दिल का सौदा होता है.

समय के साथ कदमताल करना कोई गलत बात नहीं है. लेकिन किसी चीज़ का इतना भी आदि नहीं होना चाहिए कि बाकी चीज़ों का अंत ही कर डालें.

Source: postpickle