इंसान की फ़ितरत है कि जिससे उसे प्यार और स्नेह भरा साथ मिलने लगता है, वो उसी को अपने जीवन में अपना लेता है. ऐसे में कोई व्यक्ति अगर किसी शारीरिक अक्षमता का शिकार हो, तो उसके लिए किसी का साथ और भी ज़रुरी बन जाता है, फिर चाहे साथ किसी इंसान का हो या किसी बेजुबान जानवर का. Delaware के रहने वाले Gibson एक बीमारी की वजह से अंधेपन का शिकार हो चुके हैं, ऐसे में अपनी मदद के लिए वो एक सर्विस डॉग को अपने साथ रखते हैं. उनके इस डॉग का नाम 'Opus' है. वो जहां भी जाते हैं, अपने साथ अपने डॉग को मदद के लिए ले जाते हैं.

Gibson और उनके प्यारे डॉग के साथ अभद्र व्यवहार करने के कारण न्यूयॉर्क शहर के एक पिज़्ज़ा हाउस पर 20 हज़ार डॉलर का जुर्माना लगाया है.

दरअसल, यह मामला साल 2014 के जुलाई महीने में शुरू हुआ था. पेशे से एक मसाज थेरेपिस्ट Gibson अपने एक दोस्त और Opus के साथ घुमने के लिए न्यूयॉर्क गये हुए थे. वहां New York City Fried Chicken नामक एक रेस्टोरेंट में वो खाना खाने के लिए गये. यहां पर उनके साथ होटल के स्टाफ़ द्वारा काफ़ी बुरा बर्ताव किया गया. उन्होंने कहा कि 'तुम यहां से अपने कुत्ते को लेकर बाहर निकल जाओ. यहां कुत्तों का लाना मना है.'

इसके जवाब में Gibson ने कहा कि वो अंधे हैं और Opus एक सर्विस डॉग है. कानून के हिसाब से सर्विस डॉग को हर जगह ले जाया जा सकता है, ताकि वो अपने अक्षम मालिक की मदद कर सके. लेकिन रेस्टोरेंट वालों ने उनकी एक नहीं सुनी और वो लगातार Gibson को बुरा-भला कहते रहे.

Source: dnainfo

इस घटना से Gibson काफ़ी आहत हुए और आगे से किसी शारीरिक रूप से अक्षम व्यक्ति के साथ ऐसा बर्ताव ना हो, इसके लिए उन्होंने ह्यूमन राइट्स कमीशन में अपील दायर कर दी. इतने साल बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए रेस्तरां पर 20 हज़ार डॉलर का जुर्माना लगाया है.

इसमें से 10 हज़ार डॉलर Gibson को दिए जायेंगे और 10 हज़ार डॉलर प्रशासन की ओर से पैनल्टी के रूप में लिए हैं.अकसर लोग अपने घमंड में इतना भूल जाते हैं कि उन्हें किसी दूसरे इंसान के ज़मीर की परवाह भी चाहिए. एक बेजुबान जानवर और एक दिव्यांग के साथ किये गये बुरे बर्ताव की सज़ा तो कोर्ट ने दे दी, लेकिन हमें फिर भी समझना होगा कि ऐसे लोग भी समाज का ही हिस्सा है. हमें उनके प्रति भी सम्मान बरतना चाहिए.

Source: distractify