अब पासपोर्ट बनवाने में आने वाली दिक्कतों को कम करने के लिए विदेश मंत्रालय एक नई योजना लाने जा रही रही है. जिससे पासपोर्ट बनवाने में लगने वाले लंबे समय और वेरिफ़िकेशन से जल्द ही छुटकारा मिल जाएगा. दरअसल, सरकार पासपोर्ट वेरिफ़िकेशन को जल्द ही ऑनलाइन करने वाली है. इसके लिए सरकार अपराध एवं अपराधी ट्रैकिंग नेटवर्क एवं सिस्टम परियोजना (CCTNS) को विदेश मंत्रालय की पासपोर्ट सेवा के साथ जोड़ने का प्रस्ताव लेकर आ रही है.

बीते सोमवार को गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने CCTNS परियोजना के तहत एक डिजिटल पुलिस पोर्टल की शुरुआत की, जिसका उद्देश्य अपराधों और अपराधियों का राष्ट्रीय ब्योरा तैयार करना है.

गृह मंत्री ने कहा, 'ये परियोजना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'न्यूनतम सरकार कारगर शासन' के सपने को पूरा करने में मदद करेगी.' वहीं गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि 'CCTNS पूरे राष्ट्रीय अपराध एवं अपराधी ब्यौरे पर पूरे भारत में खोजने में मदद करेगा.'
Source: ndtv
वहीं केंद्रीय गृह सचिव राजीव महर्षि ने कहा, 'नई व्यवस्था के तहत क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क एंड सिस्टम प्रोजेक्ट (CCTNS) को एक साल के अंदर विदेश मंत्रालय की पासपोर्ट सेवा से जोड़ दिए जाने की उम्मीद है. कुछ राज्यों में पुलिस CCTNS का इस्तेमाल कर रही है. पुलिस को एक हैंड डिवाइस दिया जाएगा, जो आवेदक के पते पर जाकर उसकी डिटेल नेटवर्क पर अपलोड कर देगी. इससे पुलिस से संपर्क का समय कम होगा. इस प्रोजेक्ट का लक्ष्य अपराध और अपराधियों का एक राष्ट्रीय डाटाबेस बनाना तथा उसे देश के सभी 15,398 पुलिस थानों को जोड़ना है.'

Source : timesofindia