मध्यप्रदेश में एक अजीबोगरीब घटना में एक टिकट कलेक्टर ने पश्चिम मध्य रेलवे (डब्ल्यूसीआर) के जबलपुर मंडल के कटनी स्टेशन पर कथित रूप से एक वरिष्ठ अधिकारी की नाक पर काट लिया. ये बेहद ही हैरान करने वाली ख़बर है.

मामला ये हुआ कि कटनी रेलवे स्टेशन के सीटीआई कार्यालय में बीते बृहस्पतिवार की शाम को एक टिकेट कलेक्टर ने सीटीआई फ्लांइग स्क्वॉड प्रभारी की दांत से नाक काट ली. घटना के बाद से ये टिकेट कलेक्टर फ़रार हो गया था. सीटीआई फ्लांइग स्क्वॉड प्रभारी को गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

Source: employeetoday

आपको बता दें कि वहां के जीआरपी ने बताया कि जबलपुर निवासी मनोज शर्मा रेलवे में सीटीआई के पद पर कार्यरत हैं और फ्लांइग स्क्वॉड में तैनात हैं. सीटीआई मनोज शर्मा जबलपुर से हजरतनिजामुद्दीन तक जाने वाली गोंडवाना एक्सप्रेस ट्रेन में टिकट चेक करने के बाद कटनी स्टेशन के सीटीआई कार्यालय में करीब साढ़े पांच बजे पहुंचे थे. तभी वहां टिकेट कलेक्टर नरेन्द्र मीणा पहुंचा और सीटीआई मनोज शर्मा से किसी बात पर झगड़ा करने लगा और ये झगड़ा इतना बढ़ गया कि वो मारपीट उनके साथ मारपीट करने लगा. और इसी दौरान उसने अपने दांतों से उनकी नाक काट ली. सीटीआई कार्यालय में मौजूद बाकी स्टाफ के लोग जब तक कुछ समझते उससे पहले ही नाक का कुछ हिस्सा टीटीई द्वारा काट दिया गया. गंभीर हालत में सीटीआई को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया.

Source: indiatimes
राजकीय रेलवे पुलिस की अधीक्षक सविता सुहाणे ने कहा, 'हमारे कटनी जिला निरीक्षक ने मुझे बताया कि टीटीई नरेन्द्र मीणा ने मुख्य टिकट निरीक्षक मनोज शर्मा की नाक पर काट लिया और शर्मा को इलाज के लिए जबलपुर ले जाया जा रहा है.

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि नरेन्द्र मीणा के खिलाफ़ भारतीय दंड संहिता (भादंसं) की धारा 326 (जानबूझकर गंभीर चोट पहुंचाना) के तहत मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने कहा कि घटना की जांच की जा रही है. डब्ल्यूसीआर के मुख्य वाणिज्यिक प्रबंधक मनोज सेठ ने बताया कि मीणा को निलंबित कर दिया गया है.

Source: newshunt

एक अधिकारी ने बताया कि शर्मा ने कथित रूप से पूर्व में किसी गलत काम को लेकर मीणा को फटकार लगायी थी और ऐसा लगता है कि आज की घटना दोनों के बीच पुरानी रंजिश से जुड़ी है.

पुलिस के मुताबिक, नरेन्द्र कुमार मीणा को जीआरपी ने गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया. कोर्ट ने आरोपी के अपराध की गंभीर प्रकृति के मद्देनजर उसे 15 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है.

Source: indiatimes