इन दिनों देश के कई हिस्सों से अफ़वाहों के फैलने की ख़बरें सामने आ रही है. झारखंड के बाद अफ़वाहों की ये आग पश्चिम बंगाल पहुंची, जहां इसने दंगों का रूप ले लिया. इसी तरह अफ़वाहों की दौड़ में अब राजस्थान भी शामिल हो गया है, जिसके बारे कहा जा रहा है कि रात के अंधेरे का फ़ायदा उठा कर कोई महिलाओं के सिर के बाल काट ले रहा है. इसके साथ ही ये भी कहा जा रहा है कि इन बालों का इस्तेमाल प्रेत अनुष्ठानों के लिए किया जायेगा.

हिंदुस्तान टाइम्स की ख़बर के मुताबिक, ये अफ़वाहें इतनी फैल चुकी है कि खुद पुलिस और प्रशासन को सामने आ कर मामले की छानबीन कर रही है. जोधपुर के फलोदी गांव के रहने वाले बाबूराम मेघवाल का कहना है कि 'वो रात के समय अपने घर में सो रहे थे कि किसी ने उनकी 13 साल की बेटी के बालों को अपना निशाना बना लिया.'

बाबूराम आगे कहते हैं कि 'इस मामले में किसी बाहरी ताकत का हाथ है, क्योंकि जब ये वाकया हुआ हम सब घर में सो रहे थे और घर का दरवाज़ा भी अंदर से बंद था.'

ऐसा ही मामला हॉस्पिटल में काम करने वाले ताराचंद की बेटी के साथ भी हुआ. उनका कहना है कि 'हम सब बैठ कर टीवी देख रहे थे कि कूलर में से एक बदबू आई और हम सब बेहोश हो गए. जब हम उठे, तो हमने देखा कि हमारी 14 साल की बेटी के बाल किसी ने काट लिए हैं.' वो आगे कहते हैं कि 'इस हादसे से हम इतना डर गए कि हमने घर में शांति के लिए पूजा करवाई.'

पुलिस के मुताबिक, अकेले जोधपुर में ही एक रात में ऐसे 12 मामले देखने को मिले हैं, जहां किसी गुप्त शख़्स द्वारा लड़कियों के बाल काटे गए हैं. इसके अलावा पुलिस को बीकानेर के बज्जू, बंगरसर और मानकसर से भी ऐसी शिकायतें मिल रही हैं.

जोधपुर के SP रवि का कहना है कि 'हम इस मामले की जांच कर रहे हैं. ज़्यादातर मामले ज़िले के रिमोट एरिया में देखने को मिल रहे हैं, जहां साक्षरता दर पहले ही बहुत कम है.' रवि आगे कहते हैं कि 'हम गांव में पुलिस का पहरा लगाने के साथ ही लोगों को समझाने की कोशिश कर रहे हैं कि ये सब कुछ सिर्फ़ अफ़वाहें हैं.'