बलात्कार का आरोप साबित होने के बाद जेल में अपने दिन गिन रहा गुरमीत राम रहीम सिंह भले ही स्कूल भी पूरा न कर पाया हो, पर वो अपने नाम के साथ कभी डॉ. लगाना नहीं भूलता. इसके पीछे कहा जाता है कि बाबा को 'वर्ल्ड रिकॉर्ड यूनिवर्सिटी' नाम की एक ब्रिटिश यूनिवर्सिटी ने 2016 में PhD की डिग्री से सम्मानित किया था.

इस यूनिवर्सिटी को ले कर ब्रिटिश सरकार ने कहा है कि उनकी लिस्ट में ऐसी किसी यूनिवर्सिटी को मान्यता-प्राप्त नहीं है. इसलिए ब्रिटिश सरकार PhD की डिग्री को बाबा से वापस लेने की तैयारी कर रही है.

Source: pagalparrot

ख़बरों के मुताबिक, ब्रिटिश गवर्नमेंट की वेबसाइट GOV.UK पर भी सभी सरकारी विभागों की जानकारी उपलब्ध रहती है, पर इस यूनिवर्सिटी से जुडी कोई डिटेल यहां भी मौजूद नहीं है. जबकि 25 जनवरी 2016 को इसी यूनिवर्सिटी के अधिकारियों द्वारा बाबा को PhD की डिग्री से सम्मानित किया गया था. डिग्री लेते समय बाबा जी समारोह में ब्लैक गाउन और ब्लैक कैप पहने पोडियम पर खड़े हुए दिखाई दिए थे. डिग्री मिलने के बाद बाबा ने 26 जनवरी को अपने ट्विटर अकाउंट पर अपने नाम के साथ डॉ. भी लगाया था. इस दिन बाबा के भक्तों ने ट्विटर पर #Happy25Jan ट्रेंड के ज़रिये उसे बधाई भी दी थी.

Source: indiatoday

इस बाबत यूनिवर्सिटी के पार्टनर और 2008 के गिनीज़ रिकॉर्ड विजेता बिस्वरूप रॉय चौधरी ने उस समय कहा था कि 'ये एक ऐतिहासिक क्षण है, जब बाबा जी थीसिस जमा करने के बाद एक नया रिकॉर्ड बना रहे हैं.' पर हाल ही में चौधरी ने एक बयान जारी करके कहा कि 'यूनिवर्सिटी के सलाहकार बोर्ड ने फ़ैसला लिया है कि बाबा से ये डिग्री ले ली जाये, जिसके लिए डेरा प्रमुख को पहले ही नोटिस भेजा जा चुका है.'

चौधरी आगे कहते हैं कि 'हमने ग़लती से एक एक ऐसे शख्स को ये सम्मान दे दिया, जो पहले से ही विवादों में था. कोर्ट का फ़ैसला आने से पूर्व ही हम बाबा के ख़िलाफ़ पिछले साल अप्रैल में FIR दर्ज करवा चुके थे.

Source: indiatimes