अंध भक्ति के नाम पर लोगों को बेवकूफ़ बनाने, महिलाओं और साध्वियों का बलात्कार करने, पुरुषों को नपुंसक बनाने, अपने ख़िलाफ़ जाने वालों को कथित तौर पर मरवाने जैसे ख़ुलासे कम नहीं थे कि 'फ़र्ज़ी बाबा' राम रहीम के डेरे से एक और ख़ुलासा हुआ है.

Source: Worldinfo

हिंदी न्यूज़ चैनल ABP ने अपनी न्यूज़ स्टोरी में ये ख़ुलासा किया है कि बाबा डेरे की बच्चियों और साध्वियों से करवा चौथ का व्रत रखवाता था. वो उन्हें कहता था कि किसी आम इंसान के लिए करवा चौथ का व्रत रखने से कोई फल नहीं मिलेगा, उन्हें उसके लिए व्रत रखना चाहिए.

Source: Mangalorean.com

जिस डेरे की सभी महिलाएं उसे 'पिताजी' कहती थी, उसी आदमी ने अपने स्वार्थ के लिए इन महिलाओं और बच्चियों से बाप-बेटी के रिश्ते पर ऐसे लांछन लगवाया.

Source: ABP

ऐसे ही एक करवा चौथ की वीडियो में राम रहीम इन महिलाओं के लिखे हुए मेसेज पढ़ रहा है, 'लोग व्रत रखते हैं सिर्फ़ उनके लिए, जो उनका सुहाग हैं. हम तो रखते हैं व्रत अपने 'पापा' के लिए, जो दोनों जहानों के सुहाग हैं.' इस दिन वो स्टेज पर बैठ कर राम रहीम उन्हें अपने व्रत खोलने का आदेश देता था. डेरे की हर महिला 'पिताजी' को अपना आध्यात्मिक पति मानती थी.

Source: India.com

ये सोच कर ही हैरानी हो रही है कि किसी आदमी का कद इस हद तक कैसे बढ़ सकता है कि वो लोगों से कुछ भी करवाने की हिम्मत रखने लगे? बाहर से देखने में हमें ये बेतुका लगेगा, लेकिन जिन लोगों को उसने अपने वश में कर लिया था, उनके लिए उसकी बात पत्थर की लकीर से काम नहीं थी.