क्रिकेट कोच रमाकांत अचरेकर की अंतिम विदाई आसूओं के बीच हुई, उम्र संबंधी बीमारियों की वजह से 2 जनवरी को उनका देहांत हुआ था.

रमाकांत अचरेकर की अंतिम यात्रा में उनके प्यारे शिष्य सचिन तेंदुलकर भी मौजूद थे, उनकी आखें भी नम थीं.

Source: indiatimes

गुरु अचरेकर का पार्थिव शरीर की अंतिम यात्रा शिवाजी पार्क, जहां वो बच्चों को क्रिकेट खेलना सिखाते थे से शुरू हुई.

जब उनके शरीर को मैदान से बाहर से ले जाया गया, तब वहां उनके छात्रों ने सम्मान में उन्हें 'गार्ड ऑफ़ ऑनर' दिया और 'अमर रहें' का नारा लगाया.

Source: indiatimes

सचिन तेंदुलकर के अलावा विनोद कांबली, बलविंदर सिंह संधु और चंद्रकांत पंडित ने भी अपने गुरु के क्रियाक्रम में हिस्सा लिया.

मुंबई के क्रिकेटर अतुल रानाडे, अमोल मजूमदार, रमेश पवार के साथ रणजी कोच विनायक सामंत, निलेश कुलकर्णी, विनोद राघवन भी वहां रमाकांत अचरेकर के अंतिम दर्शन के लिए आए थे.

राजनेताओं में महाराष्ट्र नव निर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे, विधायक और भाजपा नेता आशीष शेलार भी पद्मश्री और द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित रमाकांत अचरेकर को अपनी श्रद्धांजली अर्पित करने आए थे.

Source: indiatimes