ऐसा कहा जाता है कि बॉलीवुड में एक बार जो फ़ॉर्मूला हिट हो जाता है उसे बार-बार आज़माने कि कोशिश की जाती है. पुनर्जन्म की कहानी को ले कर बॉलीवुड में कई फ़िल्में बन चुकी हैं और हिट भी रही हैं. चाहे 'कर्ज़' की बात करें या फिर 'करण-अर्जुन' की. एक तरह से निर्देशकों के लिए ये फ़ॉर्मूला मील का पत्थर साबित हुआ है. हाल ही में आई पुनर्जन्म पर आधारित फ़िल्म 'राब्ता' आज कल सुर्ख़ियों में है. आइए जानते हैं पुनर्जन्म पर और कितनी फ़िल्में बनीं हैं.

मधुमती

Source: In.pinterest

दिलीप कुमार और वैजयन्ती माला की फ़िल्म 'मधुमती' पुनर्जन्म पर आधारित है. इसमें दिलीप साहब ने एक इंजीनियर का किरदार निभाया है, जो एक रात कहीं जा रहा होता है कि उसकी कार में कुछ ख़राबी आ जाती है. इसके बाद उसे एक हवेली में शरण लेनी पड़ती है. वहीं उसको अपने पूर्व जन्म का आभास होता है और पिछले जन्म की प्रेमिका से मुलाक़ात होती है.

कर्ज़

Source: Upperstall

'कर्ज़' फ़िल्म का निर्देशन सुभाष घई ने किया था. फ़िल्म की कहानी की शुरुआत में रवि नाम का पात्र की हत्या उसी की पत्नी कर देती है. फ़िल्म में रवि दोबारा मॉन्टी(ऋषि कपूर) बन कर पैदा होता है और जब छुट्टियों पर घर जाता है, तो एक घटना के बाद उसे अपने पूर्व जन्म की बातें याद आने लगती हैं. इसके बाद मॉन्टी पिछले जन्म का बदला लेता है, जिस समय ये फ़िल्म सिनेमाघरों में आई थी उस वक़्त इस फ़िल्म की कड़ी आलोचना हुई थी.

करन अर्जुन

Source: Hitmoviedialogues

दो भाईयों कि इस कहानी ने उन दिनों बॉक्स ऑफ़िस पर ख़ूब धमाल मचाया था. फ़िल्म में अमरीश पुरी, जुड़वा भाई करण और अर्जुन तथा उनके पिता को जान से मार देते हैं, लेकिन उनकी मां को विश्वास नहीं होता है कि उसके बेटों की मौत हो चुकि है. इसके बाद फ़िल्म में दोनों भाई दूसरे परिवारों में दोबारा जन्म लेते हैं और संयोग से दोनों की मुलाक़ात होती है. दोनों भाई अपने और अपने पिता की मौत का बदला लेते हैं.

ओम शांति ओम

Source: Impawards

सुपर हिट रही 'ओम शांति ओम' फ़िल्म में ओम प्रकाश मख़ीजा उर्फ़ ओमी का किरदार शाहरुख़ ने निभाया है. फ़िल्म में वो सुपर स्टार शांति प्रिया(दीपिका पादुकोण) के प्यार में पड़ जाते हैं. मगर शांति प्रिया के पति की साज़िश में फंस कर मारे जाते हैं. ओमी, ओम कपूर के रूप में दोबारा जन्म लेता है, और विलन को मरने में कामयाब हो जाता है.

लव स्टोरी 2050

Source: Unglekey

फ़िल्म निर्माता हैरी बवेजा के बेटे हरमन बवेजा ने इस फ़िल्म के ज़रिये अपने करियर की शुरुआत की थी. इस फ़िल्म में नायिका टाइम-मशीन द्वारा भविष्य में यात्रा करने के लिए जाती है, जहां एक एक्सीडेंट में वो मारी जाती है. प्रियंका को वापिस लाने के लिए हरमन भविष्य में जाता है और खुद को ही अपना दुश्मन पाता है. यहां हीरो, विलेन से लड़ कर पुराने समय में आने के लिए संघर्ष करता है.

Article Source: Hindustan Times