रोल्स रॉयस, कारों का एक ऐसा ब्रांड है, जो पूरी दुनिया में अपनी सबसे महंगी, लग्जरी और सबसे एक्सक्लूसिव कारों के लिए जाना जाता है. आधिकतर लोग इस कार के सपने देखा करते हैं. लेकिन ज़रूरी नहीं कि ये सबको मिल ही जाए.

आज हम आपको रोल्स रॉयस की एक छोटी और नई इलेक्ट्रिक स्पोर्ट्स कार के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे खासतौर पर हॉस्पिटल में आने वाले बच्चों के लिए डिज़ाइन किया गया है.

ब्रिटिश कंपनी रोल्स रॉयस ने सिंगल सीट वाली कार का एक मॉडल तैयार किया है. कार का यह मॉडल West Sussex के Chichester में स्थित St Richard’s Hospital Paediatric Day Surgery Unit में बच्चों के लिए बनाया गया है.

इस लकी बच्चे का नाम Hari Rajyaguru है और ये 7 साल का है. इस फ़ोटो में ये कंपनी के Goodwood में स्थित हेडक्वार्टर में नई रोल्स रॉयस SRH कार की फर्स्ट राइड कर रहा है.

वन-ऑफ मोटर वाली इस कार को West Sussex के Chichester में स्थित St Richard’s Hospital Paediatric Day Surgery Unit में एडमिट बीमार बच्चों के लिए बनाया गया है.

खासतौर से बीमार बच्चों के लिए बनाई गई Rolls Royce SRH कार, 165 सेमी लम्बी, 80 सेमी चौड़ी और 70 सेमी ऊंची है. इसका वज़न 135 किलोग्राम है.

इस छोटी सी कार में बैठकर बच्चे खुद ही ड्राइव करते हुए ऑपरेशन थिएटर तक जा पायेंगे. इस कार को हॉस्पिटल में इसलिए लाया जा रहा है ताकि बच्चों में ऑपरेशन से पहले होने तनाव और चिंता को कम किया जा सके.

आपको बता दें कि Rolls-Royce SRH को डिज़ाइन करने में इंजीनियर्स को करीब-करीब 400 घंटे लगे. इस कार में 24-Volt Gel बैटरी है और यह अधिकतम 10 मील प्रति घंटे की गति से चल सकती है.

8 वर्षीय Molly Matthews और 7 वर्षीय Hari Rajyaguru ने कंपनी के हेडक्वार्टर में इस कार की फर्स्ट राइड के मज़े लिए.

वैसे तो इस सिंगल सीट कार की स्पीड 10mph तक जा सकती है, लेकिन हॉस्पिटल के अन्दर सुरक्षा की दृष्टी से इसकी स्पीड को आधा कर दिया गया है. इस कार में दो रंगों का इस्तेमाल किया गया है, एक है Andalusian White और Salamanca Blue. SRH में दो टोन के स्टीयरिंग व्हील, सीट और इसके बीच में एक ऐसा व्हील भी है, जो खुद ही नियंत्रित होता है.

Source: thesun