पिछले कुछ दशकों में हमारे देश ने काफ़ी तरक्की की है. साइंस से लेकर फ़िल्म जगत तक, कई मामलों में हमें अद्भुत बदलाव देखने को मिले हैं. टेक्नोलॉजी के इस दौर में सबसे बड़ा फ़ायदा ये है कि अगर आपके पास करने के लिए, कुछ न भी है तो भी आप बोर नहीं होगे. अरे हमारा इंटरनेट ज़िंदाबाद. वीडियो गेम खेलना हो या अपने फ़ेवरेट स्टार की मूवी देख कर टाइम पास करना हो, सब कुछ मोबाइल के छोटे से टैब में मौजूद है.

Source: Arrechintu

हांलाकि, कभी-कभी मन में ख़्याल आता है कि शहरों में तो लोग जैसे-तैसे टाइम पास कर ही लेते हैं, लेकिन गांव और कस्बों का क्या? अधिकतर गांव में बिजली की कौटती की वजह से, ग्रामीण इलाकों में इंटरटेनमेंट के साधन आज भी लिमिटेड ही हैं. इसी चीज़ को ध्यान में रखते हुए, अभिनेता सतीश कौशिक ने एक बेहद सराहनीय कदम उठाया है.

दरअसल, सतीश कौशिक मोबाइल डिजिटल मूवी थिएटर (MDMT) लॉन्च कर रहे हैं, जिसके चलते वो ट्रक को सिनेमाघरों में परिवर्तित कर रहे हैं. इन ट्रक के ज़रिये, विभिन्न गांवों में लोगों को 35 रुपये से 75 रुपये के बीच फ़िल्में दिखाई जाएंगी. बताया जा रहा है कि इस योजना के लिए सरकार की तरफ़ से धन आवंटित नहीं किया गया है. इसके बावजूद इसका लॉन्च दिल्ली के मुख़्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कर रहे हैं. वहीं हर ट्रक का नाम एक फ़िल्म के नाम पर रखा जाएगा. इनमें मुख्य फ़िल्में 'मिस्टर इंडिया', 'बाहुबली', 'डॉन', और 'शहंशाह' है.

वहीं मामले पर सतीश कौशिक का कहना है कि दिन पर दिन प्रॉपर्टी की कीमतों में बढ़ोतरी होती जा रही है. ऐसे में ग्रामीण क्षेत्र में लोगों को मनोरंजन प्रदान करने के लिए ये एक अच्छी शुरुआत है.

Source : Mid-Day