पाकिस्तान की मशहूर अदाकारा और गायक मीशा शफ़ी ने गायक एवं अभिनेता अली ज़फ़र पर यौन शोषण का आरोप लगाया है. इस आरोप के बाद से पाकिस्तान में #MeToo आंदोलन चल पड़ा है.

मीशा शफ़ी पाकिस्तान की फ़िल्म इंडस्ट्री में एक जाना-पहचाना नाम है. उन्होंने 'भाग मिल्खा भाग' में तैराक 'परिज़ाद' का किरदार निभाया था, इसके अलावा वो मीरा नायर की फ़िल्म, The Reluctant Fundamentalist में भी काम कर चुकी हैं. मीशा ने अली ज़फ़र के ऊपर शारीरिक यौन शोषण का आरोप लगाया है. ये आरोप सोशल मीडिया पर एक पोस्ट के माध्यम से लगाए गए हैं.

ट्विटर पर अपनी बात रखते हुए मीशा कहती हैं कि उनके साथ यौन शोषण तब नहीं हुआ, जब वो इस इंडस्ट्री में नई थीं. ये घटना शौहरत हासिल करने के बाद की है. पोस्ट में अली ज़फ़र का नाम लेते हुए सभी आरोप लगाए गए हैं.

मीशा ने लिखा, 'ये मेरे और मेरे परिवार के लिए ज़ख्मी करने वाला अनुभव था, अली को मैं कई सालों से जानती हूं, हमने कई बार मंच पर साथ में काम किया है. अली के बर्ताव से मैं बहुत आहत हूं और मैं जानती हूं कि मैं अकेली नही हूं.'

पोस्ट के जवाब में अली ज़फ़र ने भी ट्वीट करते हुए लिखा है कि उनके ऊपर लगाए गए सभी इल्ज़ाम बेबुनियाद हैं और वो इस मामले से क़ानूनी और पेशेवर तरीके से निपटेंगे.

हालांकि इस एक इल्ज़ाम के बाद पाकिस्तानी फ़िल्म इंडस्ट्री और इंडस्ट्री के बाहर से भी कई लड़कियों ने अली ज़फ़र पर यौन शोषण का आरोप लगाया है. इसके बाद से ही ट्विटर पर बहस का दौर चल पड़ा है.

#MeToo कैंपेन की शुरुआत हॉलीवुड के मशहूर निर्माता Harvey Weinstein के ख़िलाफ़ हुई थी. हार्वी के ख़िलाफ़ हॉलीवुड की कई बड़ी Actresses ने यौन उत्पीड़न, शोषण और ग़लत व्यवहार के आरोप लगाए थे. ये पहला ऐसा मौका था, जब महिलाओं को लेकर इतने संवेदनशील मामले में पूरी हॉलीवुड Fraternity साथ आयी थी. बॉलीवुड में भी कई एक्ट्रेस इस मुद्दे को लेकर आगे आयी थीं.

Source: bbc