कुछ दिनों पहले राजस्थान में शंभूलाल रैगर नाम के एक शख़्स ने एक मजदूर मुस्लिम युवक की हत्या कर के सारे देश को दहला दिया था. इस हत्या के पीछे शंभूलाल का कहना था कि हिंदुत्व की रक्षा और लव जिहाद को रोकने के लिए उसने इस हत्या को अंजाम दिया था. इस हत्या को जायज़ ठहराने के लिए तथाकथित हिन्दुओं का एक समूह भी सोशल मीडिया पर जाग गया था, जो जगह-जगह शंभूलाल से जुड़ी अफ़वाहें फैला कर उसे एक हीरो के रूप में स्थापित करने में लगे हुए थे.

शंभूलाल की इस मुहीम में दीपक शर्मा जैसे लोग भी शामिल हो गए, जो खुद भी सोशल मीडिया में इतने बदनाम है कि अब बदनामी भी इनके नाम से ख़ौफ़ खाती है. ख़ैर हिंदुत्व के इसी हीरो को ले कर एक नया खुलासा हुआ है कि अपने कुकर्मों को छिपाने के लिए शंभूलाल ने धर्म का सहारा लिया.

Source: ZeeNews

ख़बरों के मुताबिक, शंभूलाल का एक युवती के साथ अवैध संबंध था, जिसे छिपाने के लिए उसने लव जिहाद के नाम पर हत्या का सहारा लिया, जिससे लोगों का ध्यान भट कर दूसरी तरफ़ चला जाए. उदयपुर के आईजी आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि 'पिछले 10 महीनों से शंभूलाल के एक लड़की के साथ अवैध संबंध थे, लेकिन बदनामी के डर की वजह से लड़की का परिवार भी इस मामले को लेकर कुछ नहीं कह रहा था. तंग आ कर परिवार वाले एक दिन शंभूलाल के ख़िलाफ़ थाने में शिकायत दर्ज कराने वाले ही थे कि उसने अफ़राजुल की हत्या करके सारे मामले को ही भटका दिया.'

आनंद श्रीवास्तव आगे कहते हैं कि 'शंभूलाल को यह डर था कि अगर उसके ख़िलाफ़ इस तरह की शिकायत हुई, तो इससे उसकी हरकत के बारे में उसकी पत्नी और माता-पिता को पता चल जायेगा.' मामले की जांच कर रहे एक अधिकारी का कहना है कि 'इस बाबत लड़की से पूछताछ भी की गई है, जिसने इस बात को स्वीकार भी किया है.' एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि 'शंभूलाल को लगा कि ऐसा करके न सिर्फ़ उसका सच सबसे छिप जायेगा, बल्कि वो कट्टरपंथी हिन्दू संगठनों का हीरो भी बन जायेगा.'

हिंदुत्व की पट्टी बांधे लोगों को अगर अब भी लगता है कि शंभूलाल उनका हीरो है और उसने जो किया सही किया. तो ऐसे लोगों के लिए बस यही कहा जा सकता है कि 'विनाश काले विपरीत बुद्धि'.

Feature Image Source: Scroll