धीरे-धीरे भारत में रेलवे और ट्रेनों का रूप बदलने वाला है. खाने, साफ़-सफ़ाई जैसी मूलभूत चीज़ों को ठीक करने के प्रयास के बाद अब रेलवे अपने यात्रियों को प्लेन जैसी आरामदायक सीट्स देने की प्लानिंग कर रहा है. इंडियन रेलवे पहली बार शताब्दी और गतिमान एक्सप्रेस के लिए पहली बार पूरी तरह से AC कोच तैयार किया है.

शताब्दी और गतिमान एक्सप्रेस, दोनों को ही लग्ज़री ट्रेन अपनी सुविधाओं के लिए जानी जाती हैं. इस फ़ीचर के बाद इन ट्रेनों से यात्रा करने पर एयरलाइन्स का कम्फ़र्ट मिला करेगा.

कुछ इस तरह दिखेंगे शताब्दी के नए कोच

वैसे नॉर्मल AC Chair कोच में भी आरामदायक सीट और लेग रूम रहता है, और हर सीट के लिए एक LCD स्क्रीन भी लगी हुई है. इस बार नए कोचों में पानी और चाय के गिलास के लिए अलग से जगह और ट्रे बनायी गयी है.

फ़ुट और मैगज़ीन एरिया वैसा ही है, लेकिन अब सीट का स्पेस बढ़ गया है, यानि आप आराम से पैर फै़ला सकते हैं.

सीट में एक एडजस्ट करने वाला हिस्सा भी होगा, जिसको आप खोल कर लेग रेस्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं.

लड़ने की ज़रूरत नहीं, हर सीट में एक एलसीडी स्क्रीन होगी ताकि आप बिना बोर हुए, सफ़र कर पायें.

प्लेन की तरह ही सीट के ऊपर एक बटन बना होगा, जिसको दबाने पर फ्लाइट अटेंडेंट की तरह एक ऑफिसर आ जाएगा.

एग्क्यूज़ीटिव क्लास में सिर को आराम देने के लिए अलग से हेड रेस्ट भी होगा.

इन ट्रेनों में ये बदलाव सिर्फ़ कोचों में नहीं हुए हैं, बल्कि पैंट्री में भी. किचन में खाना गरम रखने के लिए अलग से चैम्बर बनाए गए हैं, जो कुछ ऐसे दिखते हैं.

साथ ही कुछ चीज़ों को ख़राब होने से बचाने के लिए कूलिंग चैम्बर और फ्रीज़र भी लगाए गए हैं.

गरम पानी की व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए हॉट वॉटर बॉयलर भी लगे हैं और सूप बनाने के लिए इलेक्ट्रिक पॉट भी, ताकि लोगों तक पहुंचने तक सूप गरम रहे.

ये देख कर आपको बहुत ख़ुशी होगी, वॉशरूम में टिश्यू और सैनिटाइज़र के बॉक्स भी मिल जाएंगे.

और मेट्रो की ही तर्ज पर नए कोच के दरवाज़े ऑटोमैटिक होंगे और इन्हें ड्राइवर ही संचालित करेगा.

Source: Financial Express (Video and Screenshots)

तो आप तैयार हैं नई रेलगाड़ी में बैठने के लिए?